पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अजित पवार के इस्तीफे से संकट में सरकार

अजित पवार के इस्तीफे से संकट में सरकार

मुंबई. 25 सितंबर 2012

अजित पवार


महाराष्ट्र में उपमुख्यमंत्री अजित पवार के इस्तीफे के बाद माना जा रहा है कि एनसीपी और कांग्रेस के रिश्ते अब गड़बड़ाने लगे हैं. अजित पवार के इस्तीफे के साथ ही अब यह मांग होने लगी है कि एनसीपी सरकार से समर्थन वापस ले ले. अगर ऐसा होता है तो कांग्रेस के सामने बड़ा राजनीतिक संकट खड़ा हो सकता है. महाराष्ट्र विधानसभा में 289 सदस्य हैं, जिनमें कांग्रेस के सदस्यों की संख्या 82 है. कांग्रेस की सरकार को एनसीपी के 62 विधायकों का समर्थन है. ऐसे में अगर एनसीपी सरकार से समर्थन वापस ले लेती है तो कांग्रेस की सरकार गिर जाएगी.

गौरतलब है कि राज्य के उपमुख्यमंत्री और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के भतीजे अजित पवार ने सिंचाई घोटाले में नाम आने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपना इस्तीफा राज्य के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को भेज दिया है.

मंगलवार को मंत्रालय भवन में अजित पवार ने इस्तीफे की घोषणा करते हुये कहा कि पिछले 2 महीनों से मेरे खिलाफ सुनियोजित तरीके से आरोप लगाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सिंचाई घोटाले को लेकर विपक्ष लगातार झूठ गढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि मैंने जिंदगी में किसी से 5 पैसा नहीं लिया है. ऐसे में इस तरह के आरोपों की जांच जरुरी है. उन्होंने कहा कि इस्तीफा देने का फैसला मैंने इसलिए किया ताकि बाद में कोई यह न कहे कि पद पर रहते निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती.