पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >व्यापार > Print | Share This  

वालमार्ट जल्द ही करेगी भारतीय बाज़ार में विस्तार

वालमार्ट जल्द ही करेगी भारतीय बाज़ार में विस्तार

हैदराबाद. 27 सितंबर 2012

bharti walmart fdi


बहु ब्रांड खुदरा कारोबार करने वाली कंपनी भारती-वालमार्ट ने भारतीय बाज़ार में शीघ्र ही विस्तार करने के संकेत दिए हैं. बुधवार को हैदराबाद में कंपनी के 18वें थोक श्रृंखला स्टोर `बेस्ट प्राइस' का उद्घाटन करते हुए भारती-वालमार्ट के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी राजेश जैन ने कहा कि उनकी कंपनी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के लिए सभी राज्यों की रजामंदी का इंतजार नहीं करेगी और आने वाले 12 से 18 महीनों के भीतर वह खुदरा व्यापार में प्रवेश कर सकती है.

गौरतलब है कि भारती-वालमार्ट दिग्गज बहुराष्ट्रीय खुदरा कंपनी वालमार्ट और भारती समूह के बीच का संयुक्त उपक्रम है और देश में उसके 17 थोक श्रृंखला स्टोर `बेस्ट प्राइस' पहले से ही संचालित हैं. कंपनी के आगे कि रणनीति के बारे में बात करते हुए श्री जैन ने कहा कि भारती-वालमार्ट अभी भारत सरकार की प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति का अध्ययन कर रही है और आने वाले 30 से 45 दिनों में ही अपनी योजना तैयार कर लेगी.

श्री जैन ने यह भी कहा कि ऐसे राज्यों की संख्या पर्याप्त है जिन्होंने बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति दी है. महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश जैसे बड़े राज्यों ने इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की इच्छा जताई है और उनकी कंपनी इन राज्यों से अपनी योजनाओं पर कार्य करना शुरु करेगी.

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने हाल ही में सरकार ने बहु-ब्रांड खुदरा क्षेत्र में 51 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति दी है. हालांकि सरकार ने यह राज्यों पर छोड़ दिया है कि वे अपने प्रदेश में विदेशी दुकान खोलने की अनुमति देना चाहते हैं या नहीं. ऐसी दुकानें केवल उन्हीं शहरों में खोली जा सकेंगी जहां की आबादी 10 लाख से अधिक है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ganeshberwal [ganeshberwal@hotmail.com] sikar(rajasthan) - 2012-10-01 02:33:41

 
  भारतीय पूंजीपति इंडिया को गुलाम बनाने का प्रयास कर रहे हैं. इन्होंने 65 वर्षों में देश के लिए उपभोग (कंज्यूमर) सामग्री बनाई ही नहीं. सुबह से लेकर शाम तक टूथपेस्ट से मोबाइल तक सामग्री विदेशी आ चुकी है. ये प्रयास तो गुलामी को और नजदीक लाने की कोशिश है. ये मेरे देश का दुर्भाग्य होगा. 
   
 

Sunder Lohia [lohiasunder2@gmail.com] Mandi Himachal Pradesh - 2012-09-30 14:21:12

 
  जो वालमार्ट के आने से नौकरी की आस कर रहे हैं उन्हें एक या डेढ़ साल तक इंतजार करने पडे़गा बकौल राजेश जैन जो उस कंपनी के प्रतिनिधि हैं. तब तक विदेशी निवेश की हिमायती सरकार का पत्ता साफ हो चुका होगा. वालमार्ट उस मुल्क में क्यों आएगा जहां कदम कदम पर भ्रष्टाचारी अफसर नेता और बनिया मिलेगा. वे हमारी न्यायपालिका के रुख से भी भयभीत है जो प्रधानमंत्री तक की बात को काट देते हैं कानून के नश्तर से. उन्हें जिस तरह की लूट की आदत है उसका मौका यहां मिलने की संभावना खत्म होती लग रही है. वालमार्ट को यहां नौकरी करने वालों केलिए एक और दुखदाई खबर है कि ओबपामा ने नौकरी की तलाश में आने वालों पर वीसा की फीस बढ़ा दी है ताकि उनसे बचा जाए. 
   
 

jayeshkumar [jayesh.current@gmail.com] ahmedabad - 2012-09-27 09:58:19

 
  विनाश काले विपरीत बुद्धि. हमारे देश की डोर आड सोनिया/एमएमएस के पास है, वो जुगाड़ करने में माहिर हैं, अपने मुनाफे के खातिर देश को बेच रहे हैं, खोखला कर रहे हैं, गुलामी का शासन अगर आ गया तो भारत खत्म हो जाएगा. देश बचाओ सोनिया/एमएमएस, शरद, कांग्रेस/एनसीपी, सपा, बसपा, सबको भगाओ. Mamta, Jaya, Navin, &entire left must jointly with NDA work for one agenda to remove existing Govt, & get fresh mandate ASAP.  
   
 

manoj [manojadhikary58@gmail.com] ambikapur, surguja chhatisgarh - 2012-09-27 07:20:46

 
  स्वतंत्र भारत को फिर से परतंत्र करने का तरीका है. 
   
 

Dr shyam singh kushwaha [sskushwahatvi@gmail.com] Ayana road muradganj auraiya - 2012-09-27 05:47:45

 
  वालमार्ट के आने से देश में बेरोजगारी कम होगी और ब्रांडेड माल मिलेगा. हम इसके साथ हैं. 
   
 

yogesh [] kutch - 2012-09-27 04:57:03

 
  हम इसकी बिल्डिंग ही नहीं बनने देंगे, आएंगे कहां से. सारे भारत वर्ष से अनुरोध है कि वालमार्ट तो जमीन ही नहीं दे ताकि वह कारोबार शुरु न कर सके. विशेषकर जो कमर्शियल जमीन के विक्रेता हैं. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in