पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

एफडीआई अमरीका के दबाव में नहीं-मनमोहन

एफडीआई अमरीका के दबाव में नहीं-मनमोहन

नई दिल्ली. 29 सितंबर 2012

मनमोहन सिंह


प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि खुदरा क्षेत्र में विदेशी निवेश का फैसला उन्होंने अमरीका के दबाव में नहीं लिया है. उनका कहना था कि एफडीआई का फैसला देश में आर्थिक सुधार के लिये लिया गया है और इसे वापस लेने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता. उन्होंने कहा कि उनकी सहयोगियों से इस मुद्दे पर चर्चा आगे भी जारी रहेगी.

मनमोहन सिंह शनिवार को राष्ट्रपति भवन में भारत के नये मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर के शपथ ग्रहण के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. एफडीआई के फैसले में अमरीकी दबाव से कार करते हुये मनमोहन सिंह ने कहा कि भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र है और दूसरे राष्ट्र उसे अपने आदेश से नही चला सकते.

उन्होंने कहा कि वो ऐसे सभी काम करेंगें जो कि भारत के लिए अच्छे हैं. सुधार एक सतत प्रक्रिया है और ये जारी रहेंगे. उन्होंने कहा कि एफडीआई का फैसला वापस नहीं होगा. उनकी सरकार की कोशिश है कि इस मुद्दे पर अपने सहयोगियों के साथ बातचीत जारी रहे. मनमोहन सिंह ने यह भी कहा कि अभी समय पूर्व चुनाव की कोई आशंका नहीं है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Sunder Lohia [lohiasunder2@gmail.com] Mandi Himachal Pradesh - 2012-09-30 14:28:32

 
  अगर आपको याद हो तो मोहतरमा क्लिंटन और आपके परम मित्र ओबामा कितनी बार आपको आर्थिक सुधारों की गति को तेज़ करने की हृदयनुमा सलाह दे चुके हैं. बड़े आदमी के आदेश भी सलाह की तरह होते हैं. पत्ता पत्ता बूटा बूटा प्यार तुम्हारा जाने है, जाने न जाने गुल ही न जाने बाग तो सारा जाने है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in