पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

हर हफ्ते सरकार करेगी आर्थिक सुधार

हर हफ्ते सरकार करेगी आर्थिक सुधार

नई दिल्ली. 4 अक्टूबर 2012 बीबीसी

पी चिदंबरम


भारत के वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि आने वाले दिनों में सरकार हर हफ़्ते एक ऐसा आर्थिक सुधार ला सकती है जिसके लिए संसद में कानून पास करने की ज़रुरत नहीं है. चिदंबरम का कहना है कि जिन सुधारों के लिए सरकार को कानून पास कराने की ज़रुरत है उन सुधारों में से कई के बारे में उन्हें उम्मीद है कि वो संसद के शीत सत्र में पास हो जायेंगे.

बीबीसी के साथ हुई एक विशेष बातचीत में वित्त मंत्री ने माना कि भारत में आर्थिक सुधार तभी लाये जाते हैं जब आर्थिक हालात इसे सरकार की मजबूरी बना दें. चिदंबरम का कहना है"लेकिन दुनिया भर के के ज़्यादातर देशों में यही होता है. अमरीका ने स्वास्थ्य क्षेत्र में यही किया, ब्रिटेन ने भी कई मामलों में यही किया. पर हम कई ऐसे सुधार भी ला रहे हैं जिन्हें लाने की हमारी कोई मजबूरी नहीं है."

वित्त मंत्री इस बात का जोरदार खंडन करते हैं कि भारत में अधिकांश लोग यह मानते हैं कि यूपीए सरकार आज़ाद भारत के इतिहास में भ्रष्टतम सरकार है. वित्त मंत्री कहते हैं "कोई यह नहीं कह सकता कि इस देश के अधिकांश लोग क्या सोचते हैं, इस देश का हर आदमी चुनाव के दिन अपने वोट से बताएगा कि वो क्या सोचता है." चिदंबरम ने भारत में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आगे बोलते हुए कहा, "साल 1991 से आज तक मैं सैकड़ों, भारत आए विदेशियों, मध्यस्थों और निवेशकों से मिला हूँ लेकिन किसी ने यह नहीं कहा कि भारत में भ्रष्टाचार भीषण तरीके से बढ़ा हो. बस हुआ यह है कि अर्थव्यवस्था का फैलाव हुआ, कीमतें बढीं इसलिए लोगों को यह लगता है कि भारत में भ्रष्टाचार के बिना तो कुछ नहीं हो सकता."

उन्होंने उदहारण देते हुए बताया कि " कोयले के खनन से आज से दस बरस पहले जितना राजस्व प्राप्त होता था, आज उससे दस गुना मुनाफ़ा सरकार को प्राप्त हो रहा है लेकिन इस व्यापार के आंकड़े बहुत बड़े हैं इसलिए लोगों को यह भी लगता है कि भ्रष्टाचार भी बहुत बड़ा हुआ होगा."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in