पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

शौचालय मंदिर से पवित्र-जयराम रमेश

शौचालय मंदिर से पवित्र-जयराम रमेश

नई दिल्ली. 6 अक्टूबर 2012

जयराम रमेश


केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा है कि भारत में मंदिर से ज्यादा हमारे टॉयलेट पवित्र हैं. केंद्र सरकार की निर्मल भारत यात्रा को हरी झंडी दिखाते हुए उन्होंने कहा कि हमारे देश में मंदिर से ज्यादा टॉयलेट महत्वपूर्ण हैं. उनके इस बयान का शिवसेना और भाजपा ने कड़ा विरोध किया है.

गौरतलब है कि सफाई की जागरुकता के लिये केंद्र सरकार ने शनिवार से निर्मल यात्रा शुरु की है. यह यात्रा देश में दो हजार किलोमीटर का सफर पूरा करेगी और यह महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश राजस्थान और बिहार जैसे राज्यों से होकर गुजरेगी. इसी यात्रा को हरी झंडी दिखाते हुये जयराम रमेश ने यह विवादास्पद टिप्पणी कर दी.

इस अवसर पर जयराम रमेश ने कहा कि ये निर्मल यात्रा वो चीज बनाने के लिए है जो मैं समझता हूं मंदिर से भी ज्या दा पवित्र है और वो है शौचालय. हम जितने भी मंदिर में जाएं, अगर शौचालय नहीं हैं, आप कितने भी नारियल फोड़ लीजिए आपको मोक्ष मिलने वाला नहीं है. हमारे देश में सबसे अफसोसजनक बात है कि सबसे गंदी जगहों पर हमारे मंदिर हैं. जब आप मंदिर जाते हैं आपको नाक बंद करके जाना पड़ता है क्यों कि इसको हम स्वीरकारते हैं.

उन्होंने कहा कि 64 फीसद भारतीय खुले में शौच करते हैं. अब यह साबित हो चुका है कि खुले में शौच भारत में कुपोषण की बड़ी वजह है. पिछले पांच वर्षो में ग्रामीण स्वच्छता पर सरकार ने 45 हजार करोड़ खर्च किए हैं और अगले पांच वर्षो में इस पर 1.08 लाख करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.

अब जयराम रमेश के इस बयान पर भाजपा ने कहा है कि जयराम रमेश को इस मामले पर माफी मांगनी चाहिये. वहीं शिवसेना ने कहा है कि ऐसे मंत्री को शौचालय में ही बंद कर देना चाहिये.