पहला पन्ना >खेल >दिल्ली Print | Share This  

मैच फिक्सिंग में फंसे आईसीसी के अंपायर

मैच फिक्सिंग में फंसे आईसीसी के अंपायर

नई दिल्ली. 9 अक्टूबर 2012

मैच फिक्सिंग


टी-20 वर्ल्ड कप क्रिकेट मैच में अंपायरों द्वारा मैच फिक्सिंग का सनसनीखेज रहस्योद्घाटन होने के बाद आईसीसी यानी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने जांच का काम शुरु कर दिया है. हालांकि आईसीसी ने साफ किया है कि जिन अंपायरों पर आरोप लगाए गए हैं, उनमें से किसी ने भी टी-20 वर्ल्ड कप के आधिकारिक मैचों में अंपायरिंग नहीं की थी.

गौरतलब है कि समाचार चैनल इंडिया टीवी ने एक स्टिंग ऑपरेशन में यह सनसनीखेज रहस्योद्घाटन किया कि टी-20 वर्ल्ड कप मैच के दौरान कम से कम 6 अंपायर ऐसे थे, जो मैच को फिक्स करने के लिये तैयार थे. चैनल ने अपने स्टिंग ऑपरेशन में जिन अंपायरों को दिखाया है, वे श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश के हैं. जो अंपायर मैच फिक्सिंग के लिये तैयार थे, उनमें रीलंका के गामिनी दिसानायके, मॉरिस विंस्टन और सागर गलागे, बांग्लादेश के नादिर शाह और पाकिस्तान के नदीम गौरी व अनीस सिद्दीकी शामिल हैं.

एक सातवें अंपायर से भी इंडिया टीवी ने संपर्क किया था, लेकिन उस अंपायर ने इस तरह के काम में सहयोग करने से इंकार कर दिया था.

सोमवार को इस स्टिंग ऑपरेशन का चैनल पर प्रसारण होने के बाद ही क्रिकेट की दुनिया में सनसनी फैल गई. बरसों पहले क्रिकेटरों द्वारा मैच फिक्सिंग की घटना के बाद अब अंपायरों द्वारा मैच फिक्सिंग की बात सामने आने के बाद क्रिकेट प्रेमियों में निराशा छा गई.

इधर आईसीसी यानी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने मामले की जांच के लिये इंडिया टीवी से संबंधित ऑपरेशन के फुटेज मांगे हैं.
आईसीसी ने तुरंत एक बयान जारी करते हुये कहा कि आईसीसी और उसके संबंधित सदस्य इंडिया टीवी की तरफ़ से लगाए गए आरोपों से अगवत हुए हैं और हम चैनल से अपील करते हैं कि जो भी सबूत उसके पास हैं, वो उन्हें सौंपे ताकि इस मामले में जो अत्यावश्यक जांच शुरू हुई है उसमें मदद मिल सके. आईसीसी ने अपने बयान में कहा है कि आईसीसी भ्रष्टाचार को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी, चाहे आरोप खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ हो या अधिकारियों के ख़िलाफ़.