पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

छत्तीसगढ़ में हर दिन 3 रेप

छत्तीसगढ़ में हर दिन 3 रेप

रायपुर. 13 अक्टूबर 2012

रेप


राष्ट्रीय महिला आयोग के अनुसार हरियाणा से कहीं अधिक छत्तीसगढ़ में हर दिन औसतन 3 महिलाओं के साथ रेप की घटनाएं होती हैं. देश में रेप के मामले हरियाणा से कहीं अधिक छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में सामने आए हैं. यहां तक कि राज्य में रेप के कई मामलों में लोग लोकलाज के भय से सामने नहीं आते हैं. यह दावा किया है राष्ट्रीय महिला आयोग की राष्ट्रीय अध्यक्ष ममता शर्मा ने. उनका कहना है कि महिलाओं पर तेजाब फेंकने की सर्वाधिक घटनाएं भी इन्हीं दोनों राज्यों से आ रही हैं.

गौरतलब है कि इन दिनों हरियाणा में गैंग रेप को लेकर पूरे देश में बयानबाजी का दौर चल रहा है. हरियाणा में एक महीने में रेप के 18 मामलों के बीच प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता धर्मवीर गोयत ने कहा था कि हरियाणा में सामने आए गैंग रेप के 90 प्रतिशत मामले दरअसल सहमति से सेक्स के मामले हैं. गोयत ने कहा कि 90% लड़कियां अपनी जान-पहचान वाले लड़के के साथ जाती सहमति से हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं होता है कि आगे चल कर उनका गैंग रेप भी हो सकता है.

इससे पहला कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी हरियाणा का दौरा करते समय कहा था कि अकेले हरियाणा में रेप के मामले नहीं हो रहे हैं. यह तो पूरे देश में बढ़ रहा है और इस पर पूरे देश में जागरुकता चलाने की जरुरत है. सोनिया गांधी के इस बयान के बाद बाबा रामदेव ने कहा था कि दुष्कर्म की घटना उनकी खुद की बेटी के साथ होती, तो क्या वह ऐसा ही बयान देतीं. इस तरह से अपने मुख्यमंत्रियों का बचाव करना बहुत शर्मनाक है.

अब महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा है कि महिला आयोग के पास महिला उत्पीड़न के सर्वाधिक मामले मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से ही सामने आये हैं. उन्होंने कहा कि देश भर में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिये फास्टट्रैक कोर्ट बनाये जाने की जरुरत है. महिला आयोग के अनुसार छत्तीसगढ़ में पिछले साल 1053 महिलाओं के साथ रेप के मामले सामने आये थे और महिलाओं के विरुद्ध यौन उत्पीड़न, छेड़छाड़ जैसे तमाम अपराधों की संख्या 4219 थी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

S M Sharma [smsharma1@live.in] Gwalior - 2012-10-13 05:38:34

 
  It seems this national women organization is working for Congress. I think they are blind to hear anything what the media and other sources report about. If such mishappening continues then this organization should be dissolved with immediate effect as the country can`t afford the parallel process to act for a political party. By doing this, we can save the loss of revenue.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in