पहला पन्ना >राजनीति >पाकिस्तान Print | Share This  

मलाला को जिंदा नहीं छोड़ेगा तालिबान

मलाला को जिंदा नहीं छोड़ेगा तालिबान

इस्लामाबाद. 14 अक्टूबर 2012

मलाला यूसुफजई


तालिबान ने कहा है कि रावलपिंडी के आर्मी हॉस्पिटल में भर्ती 14 वर्षीय मलाला यूसुफजई अगर बच जाती है तो वह उसे जिंदा नहीं छोड़ेगा. तालिबान दुबारा उसकी हत्या के लिये हमले करेगा. स्वात इलाके में तालिबान के प्रवक्ता सिराजुद्दीन ने कहा है कि मलाला का ब्रेनवॉश किया गया है. वह तालिबान विरोधी बयान दे रही थी. सिराजुद्दीन ने कहा कि हमने मलाला के पिता को कई बार चेताया था कि वह अपनी बेटी को समझाए, लेकिन हमारी नहीं सुनी गई. दोनों बाप-बेटी हमेशा हमारे निशाने पर रहेंगे.

इधर चिकित्सकों ने कहा है कि मलाला की हालत में सुधार हुआ है लेकिन वह अब भी वेंटिलेटर पर है.

इधर खबर है कि तहरीक-ए-तालिबान ने देश में पाकिस्तानी और अंतरराष्ट्रीय मीडिया संगठनों को निशाना बनाने की योजना बनाई है. बीबीसी उर्दू के अनुसार पाकिस्तानी तालिबान प्रमुख हकीमुल्ला महसूद ने पाकिस्तान के विभिन्न शहरों में अपने अधीनस्थों को मीडिया संगठनों को निशाना बनाने के लिए विशेष निर्देश जारी किया है.

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि महसूद ने अब्बास को कराची, लाहौर, रावलपिंडी, इस्लामाबाद और अन्य शहरों में मीडिया संगठनों के कार्यालयों को निशाना बनाने का निर्देश दिया. गृह मंत्रालय ने पाकिस्तान में मीडिया संगठनों के कार्यालयों की सुरक्षा कड़ी करने का आदेश दिया है.