पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

माफ़ी की वह माँग तो भाव-विभोर करने वाली थी

संघर्ष को रचनात्मकता देने वाले अनूठे जॉर्

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

पूर्वोत्तर व कश्मीर में घिरी केंद्र सरकार

भीड़ के ढांचे का सच खुल चुका

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > अंतराष्ट्रीय Print | Send to Friend 

ग्लोबल वार्मिग से बढ़ा रेगिस्तान

ग्लोबल वार्मिंग से बढ़ा समुद्री रेगिस्तान

न्यूयार्क. 5 मई, 2008

ग्लोबल वार्मिग‌ के कारण उष्णकटिबंधीय सागरों के भीतर के रेगिस्तान में पिछले पांच दशकों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है, जो समुद्री इको सिस्टम के लिए खतरे की घंटी है. गौरतलब है कि समुद्र के भीतर पानी की कम आक्सीजन वाली पर्तो को समुद्री रेगिस्तान कहा जाता है.

पर्यावरण संबंधी पत्रिका ‘नेचर’ में प्रकाशित एक रिपोर्ट में यह जानकारी देते हुए कहा गया है कि समुद्र के ‘न्यूनतम आक्सीजन जोन’ में घुली हुई आक्सीजन की सघनता खासतौर पर कम होती है. ग्लोबल वार्मिग के कारण यह जोन ऊपर और नीचे दोनों दिशाओं में बढ़ रहा है.

रिपोर्ट के अनुसार जलवायु के मॉडल बताते हैं कि मानवीय गतिविधियों के कारण समुद्री सतह के गर्म होने से विभिन्न सागरों के पानी के आपस में मिलने में बाधा आएगी, जिससे घुली हुई आक्सीजन पानी में समान रूप से वितरीत नहीं हो पाएगी. ताजा नतीजों से पता चला है कि यह प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. प्रयोग के दौरान जर्मन शोधकर्ताओं ने समुद्र में 300 से 700 मीटर गहराई में आक्सीजन का स्तर नापा.


[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in