पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

वाड्रा की जांच की तो अफसर का तबादला

वाड्रा की जांच की तो अफसर का तबादला

नई दिल्ली. 16 अक्टूबर 2012

रॉबर्ट वाड्रा


सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ जांच करवाना आईजी रजिस्ट्रेशन अशोक खेमका को महंगा पड़ा. रियल्टी कंपनी डीएलएफ के साथ हुये रॉबर्ट वाड्रा के गुड़गांव, फरीदाबाद, पलवल और मेवात के विवादास्पद जमीनों के सौदे की जांच का आदेश तो अशोक खेमका ने दिया ही था, उन्होंने मानेसर-शिकोहपुर में लगभग चार एकड़ जमीन के म्यूटेशन को भी उन्होंने रद्द कर दिया था. इस ज़मीन को वाड्रा ने 58 करोड़ रुपये में डीएलएफ को बेचा था.

गौरतलब है कि समाजसेवी अरविंद केजरीवाल और अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी. तमाम दस्तावेजी सबूतों के साथ केजरीवाल और उनकी टीम ने आरोप लगाया कि रॉबर्ट वाड्रा ने 50 लाख की संपत्ति से केवल 3 साल में 300 करोड़ की संपत्ति बना ली.अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि पिछले चार सालों में रॉबर्ट वाड्रा ने एक के बाद एक 31 संपत्तियां खरीदी हैं जिसमें से अधिकांश दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों में हैं. इन संपत्तियों को खरीदने में वाड्रा को करोड़ो रुपए चुकाने पड़े हैं.

आरोपों के अनुसार रॉबर्ट वाड्रा और उनकी मां ने पांच कंपनियों का गठन 1 नवंबर 2007 के बाद किया. उन कंपनियों के बही-खातों और ऑडिट रिपोर्ट से पता चलता है कि इन कंपनियों की कुल शेयर पूंजी मात्र 50 लाख रुपए थी. इन कंपनियों के पास आय का एकमात्र वैध स्रोत था डीएलएफ द्वारा मिला ब्याज मुक्त कर्ज. इसके अलावा इन कंपनियों की आय का कोई वैध स्रोत नहीं है.फिर भी 2007 से 2010 के दौरान इन कंपनियों ने 300 करोड़ से अधिक की संपत्ति अर्जित की जिसकी कीमत आज 500 करोड़ से ऊपर पहुंच चुकी है.

अब रॉबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के बीच हुये सौदे की जांच का आदेश देने वाले आईजी रजिस्ट्रेशन अशोक खेमका का हरियाणा सरकार ने तबादला कर दिया है. ईमानदार छवि वाले IAS खेमका की इस पद पर नियुक्ति 3 महीने पहले ही हुई थी. खेमका ने कहा है कि उनका तबादला बिल्डरों और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के कारण किया गया है. इसको लेकर उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव को बजाप्ता पत्र लिखा है.

अशोक खेमका के तबादले पर अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि जिस तरह से हरियाणा सरकार ने खेमका का तबादला किया है, वह चकित करने वाला है. हरियाणा की हुड्डा सरकार ने बता दिया है कि वह किसी भी तरह से सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को बचाना चाहती है.