पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >दिल्ली Print | Share This  

चक्रव्यूह के टाटा बिरला बाटा को हरी झंडी

चक्रव्यूह के टाटा बिरला बाटा को हरी झंडी

नई दिल्ली. 19 अक्टूबर 2012

चक्रव्यूह


प्रकाश झा की फिल्म चक्रव्यूह को ‘टाटा, बिरला और बाटा’ शब्दों के साथ शामिल गाने के साथ सर्शत प्रदर्शन की अनुमति दे दी है। इस फिल्म में गाने के प्रदर्शन के दौरान फिल्म में डिस्क्लेमर भी दिखाना होगा. सुप्रीम कोर्ट में प्रधान न्यायाधीश अलतमस कबीर की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय खंडपीठ ने अपने आदेश में कहा कि रेडिया पर इस गाने के प्रसारण से पहले भी आडियो डिस्क्लेमर प्रसारित करना होगा. अदालत ने फिल्म निर्माता को कहा कि वह भविष्य में यह ध्यान रखें कि इससे दूसरे लोगों की भावनाएं आहत न हों.

गौरतलब है कि प्रकाश झा की इस फिल्म के 'बिड़ला हो या टाटा, अंबानी हो या बाटा, सबने अपने चक्कर में देश को है बांटा, अरे हमारे ही खून से इनका इंजन चले धकाधक, आम आदमी की जेब हो गई है सफाचट..’ गीत को सेंसर बोर्ड ने मना कर दिया था लेकिन बाद में मामला तर्कों तक पहुंचा तो गाने को सेंसर बोर्ड ने हरी झंडी दिखा दी.

नक्सल आंदोलन को केंद्र में रख कर बनाई गई प्रकाश झा की फिल्म चक्रव्यूह 24 अक्टूबर को रिलीज होने वाली है लेकिन जब फिल्म सेंसर बोर्ड के पास गई तो सेंसर बोर्ड ने टाटा-बिड़ला वाले गीत पर आपत्ति दर्ज करा दी. कहा गया कि इस गाने से टाटा-बिड़ला का नाम हटाया जाये. तर्क दिया गया कि ये नाम दो प्रमुख औद्योगिक घरानों के हैं और अगर आप इन्हें ‘हमारे ही खून से इनका इंजन चले धकाधक’ जैसी पंक्तियों से नवाजेंगे तो बवाल मच सकता है.

बाद में फिल्म को सेंसर बोर्ड की दूसरी कमेटियों के पास ले जाया गया. वहां भी प्रकाश झा को समझाने की कोशिश की गई लेकिन अंततः प्रकाश झा ने कहा कि इस गाने में इन दो नामों को केवल प्रतीकात्मक तौर पर इस्तेमाल किया गया है, तब कहीं जा कर सेंसर बोर्ड ने इस निर्देश के साथ गाने को हरी झंडी दिखाई कि वे इस गाने को लेकर एक घोषणा करेंगे कि इस गाने का उद्देश्य किसी की भावनाओं को आहत करना नहीं है.

लेकिन बिड़ला समूह ने प्रकाश झा के तर्कों को स्वीकार नहीं किया और उन्हें कानूनी नोटिस थमा दी और बाद में बाटा समूह ने अदालत में शरण ले ली. अपनी याचिका में बाटा समूह का कहना था कि फिल्म के गाने 'महंगाई...' के बोल में उसके नाम का जिक्र किया गया है, जिसका ट्रेडमार्क और रजिस्टर्ड लोगो याचिकाकर्ता के पास हैं. इस फिल्म के गाने के बोल आपत्तिजनक हैं और इस वजह से उसकी प्रतिष्ठा को नुकसान हो रहा है. ऐसे में इस गाने को रिलीज करने, वितरण या किसी भी तरह से इसे दिखाए और सुनाए जाने पर रोक लगाई जानी चाहिए.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in