पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

अब क्यों चुप हैं बिहारी-ठाकरे

अब क्यों चुप हैं बिहारी-ठाकरे

मुंबई. 21 अक्टूबर 2012

बाल ठाकरे


शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे ने कहा है कि नरेंद्र मोदी नीतीश कुमार और शरद यादव जैसे नेताओं को पसंद नहीं करते हैं लेकिन उन्होंने बिहार के भाजपा नेताओं को अपने राज्य में आने की अनुमति नहीं देकर बिहार के खिलाफ सिंहनाद कर दिया है. बाल ठाकरे ने कहा कि सभी ने मोदी के बयान पर चुप रहना पसंद किया और किसी ने भी इस मुद्दे पर उनसे प्रश्न नहीं किया. उन्होंने कहा कि यदि ऐसी बात महाराष्ट्र में हुई होती तो सभी बिहारी नेता बिहारियों के गौरव की रक्षा हेतु सामने आ गए होते.

नरेंद्र मोदी द्वारा एक भी बिहारी बाबू को गुजरात में नहीं आने देने की घोषणा को लेकर बाल ठाकरे ने अपने अखबार सामना में संपादकीय लिखा है.

बाल ठाकरे ने लिखा है कि बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान नीतीश कुमार ने मोदी को उस राज्य में नहीं आने दिया था. उन्होंने जेडीयू-बीजेपी गठबंधन के पोस्टरों से भी मोदी की तस्वीर हटाने का आदेश दिया था. नीतीश कुमार का आकलन था कि यदि मोदी उनके राज्य में आए तो उससे अल्पसंख्यक वोट कम हो जाएंगे. बाल ठाकरे ने कहा कि नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी को नियंत्रित करने की क्षमता एनडीए में नहीं है.

बाल ठाकरे ने लिखा है कि नरेंद्र मोदी तो नीतीश कुमार और शरद यादव जैसे नेताओं को पसंद नहीं करते हैं लेकिन उन्होंने बिहार के भाजपा नेताओं को अपने राज्य में आने की अनुमति नहीं देकर बिहार के खिलाफ सिंहनाद कर दिया है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, रविशंकर प्रसाद, राजीव प्रताप रूडी और शहनवाज हुसैन जैसे टॉप बिहारी भाजपा नेताओं को आने से रोक दिया है.