पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >स्वास्थ्य Print | Share This  

खुले में शौच करने वालों को जेल-जयराम रमेश

खुले में शौच करने वालों को जेल-जयराम रमेश

कोटा. 22 अक्टूबर 2012

जयराम रमेश


कुछ दिनों पहले शौचालयों को मंदिर से पवित्र बताने वाले केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा है जल्द ही ऐसा कानून लाया जाएगा जिसके अनुसार खुले में शौच करने वालों को जेल होगी. रमेश कोटा के खजूरी गांव में स्थानीय लोगों को संबोधित कर रहे थे.

जयराम रमेश कोटा निर्मल भारत यात्रा के तीसरे संस्करण का शुभारंभ करने आए थे. उन्होंने अपनी जनसभा को बाद कोटा जिले के सांगौद से निर्मल भारत यात्रा का तीसरा संस्करण शुरु किया. इस अवसर पर रमेश ने कहा कि स्वच्छता महिलाओं की मर्यादा और सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है और निर्मल भारत एक जनआंदोलन है जिसका लक्ष्य अगले दस सालों में खुले की शौच करने की प्रथा का उन्मूलन करना है.

रमेश ने कहा कि, `युवतियां उन परिवारों में शादी न करें जहां शौचालय नहीं है, यानी शौचालय नहीं तो दुल्हन नहीं’. इसके लिए रमेश ने मध्य प्रदेश की अनीता नैरे का उदाहरण सबके सामने रखते हुए कहा कि अनीता शादी के दो दिन बाद ही ससुराल छोड़ कर चली गई थी, क्योंकि उसके ससुराल में शौचालय नहीं था. रमेश के अनुसार लोग अकसर शादी से पहले नक्षत्रों की अनुकूलता जानने के लिए राहु केतू के बारे में ज्योतिषी से पूछते हैं जबकि उन्हें यह देखना चाहिए कि उनके घर में शौचालय है या नहीं.

इसी मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि मैला ढोने की प्रथा को पूरी तरह खत्म करने के लिए यह कानून लाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इसके लिए नवंबर में संसद में बिल पेश किया जाएगा. रमेश ने बताया कि कि देश में दो-तीन लाख सफाई कर्मचारी मैला ढोने के काम में अब भी लगे हुए हैं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

joyg [] ganga - 2012-10-22 06:01:29

 
  Good but how is he going to implement this? 
   
 

indian [] india - 2012-10-22 05:49:09

 
  Why govt not giving toilet to every home? this stupid govt giving illogical solutions. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in