पहला पन्ना >अंतरराष्ट्रीय > Print | Share This  

रजत गुप्ता को दो साल की सज़ा

रजत गुप्ता को दो साल की सज़ा

न्यूयॉर्क. 25 अक्टूबर 2012

रजत गुप्ता


न्यूयार्क की एक अदालत ने गोल्डमैन सैक्स कंपनी के पूर्व निदेशक रजत गुप्ता को भेदिया कारोबार का दोषी ठहराते हुए दो साल की सज़ा सुनाई है और उन पर 50 लाख अमरीकी डॉलर का अर्थदंड भी लगाया है. आदेश के अनुसार रिहा होने के बाद भी गुप्ता को एक साल तक निगरानी में रहना होगा. गुप्ता को इसी साल जून में गोल्डमैन सैक्स के बोर्ड रूम की गोपनीय बातों को ‘हेज फंड’ प्रबंधक राजरत्नम को लीक करने के आरोप में दोषी करार दिया गया था.

अपना निर्णय सुनाते हुए जज जेड रैकोफ ने कहा कि हालांकि रजत गुप्ता का जीवन कई परमार्थ कामों से जुड़ा रहा है, पर गोल्डमैन सैक्स की गुप्त सूचनाओं को हेज फंड संस्थापक राज राजारत्नम के पास पहुंचाकर गुप्ता ने गोल्डमैन सैक्स की पीठ में छुरा घोंपा है. उन्होंने यह भी कहा कि यह अदालत मानती है कि गुप्ता अविश्वसनीय चैरिटेबल कार्यों से जुड़े होने के साथ-साथ अच्छे इंसान है, लेकिन अमेरिकी न्यायिक इतिहास से पता चलता है कि अच्छे इंसान भी बुरे काम करते हैं.

इससे पहले अमरीका की एक संघीय अदालत ने गुप्ता को जून में उन पर लगे छह अपराधों के आरोप में से चार को दोषी पाया था. जिसके बाद सरकारी वकीलों ने गुप्ता को 8-10 साल की सज़ा सुनाए जाने की अपील की थी. लेकिन अदालत ने गुप्ता के प्रति नरमी दिखाते हुए उन्हें सिर्फ दो साल की सज़ा सुनाई है.