पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

भारत-चीन सीमा पर युद्ध जैसे हालात नहीं: शिंदे

भारत-चीन के बीच युद्ध जैसे हालात नहीं: शिंदे

नई दिल्ली. 26 अक्टूबर 2012

सुशील कुमार शिंदे


केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने शुक्रवार को कहा कि भारत-चीन सीमा पर युद्ध जैसे कोई हालात नहीं है. वे यहां भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के 51वें स्थापना दिवस पर संवाददाताओं से बात कर रहे थे. शिंदे ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से काफी घुसपैठ हो रही है, लेकिन स्थिति हमारे सैनिकों के नियंत्रण में है.

भारत-चीन सीमा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हमने सीमा के हालात का बारीकी से अध्ययन किया है. चीनी सीमा तक आते हैं और वापस लौट जाते हैं. सीमा पर भी स्थिति ऐसी है कि यह पता लगाना मुश्किल है कि कोई वहां आया था या नहीं. लेकिन हमारे सैनिक वहां अच्छा काम कर रहे हैं. उन्होंने दावा किया कि हम 1962 के मुकाबले ज्यादा प्रशिक्षित हैं और बेहतर रूप में तैयार हैं.

शिंदे ने छत्तीसगढ़ में नक्सल विरोधी अभियान, अफगानिस्तान में भारतीय दूतावासों, वाणिज्य दूतावासों की सुरक्षा और संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में आईटीबीपी के योगदान की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि हम अपने सैनिकों को अत्याधुनिक उपकरण और सारी सहूलियतें मुहैया करा रहे हैं जिससे वे बेहतरी से अपने कर्तव्य का निर्वहन कर सकें. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सैनिकों के हितों का ध्यान रखना सरकार की प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Rajiv [pikkybabu@gmail.com] Giridih, Jharkhand - 2012-10-26 18:47:16

 
  पंडित नेहरू ने भी यही भूल 1962 में की थी. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in