पहला पन्ना >राजनीति >पाकिस्तान Print | Share This  

पाकिस्तानी सेना ने सुप्रीम कोर्ट को धमकाया

पाकिस्तानी सेना ने सुप्रीम कोर्ट को धमकाया

इस्लामाबाद. 6 नवंबर 2012

अशफाक कयानी


पाकिस्तान में एक बार फिर बगावत के सुर नजर आने लगे हैं. पाकिस्तान के सेना प्रमुख अशफाक कयानी ने पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट को धमकाने वाले अंदाज में कहा है कि कोर्ट देश की सेना को कमजोर करने की कोशिश न करे. यदि सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा करने की कोशिश की तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे.

इससे पहले पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के चर्चित जज इफ्तिखार चौधरी ने इसी से मिलती जुलती सलाह पाकिस्तानी आर्मी को दी थी. चौधरी ने कहा था कि सेना का जो काम है, सेना वही करे और वह देश की राजनीति में हस्तक्षेप करने बंद करे. ऐसा करने से देश का लोकतांत्रिक माहौल खराब होता है.

अब माना जा रहा है कि चौधरी की राय से असहमति जताने और अपना दबदबा साबित करने की कोशिश के तहत पाकिस्तान के सेना प्रमुख अशफाक कयानी का यह बयान सामने आया है. कयानी का कहना था कि जाने-आनजाने में कोर्ट को किसी भी तरह की वैसी कोशिश नहीं होनी चाहिए जिससे आर्मी और नागरिकों के बीच के रिश्तें कमजोर पड़े. यह देश के व्यापक हित में नहीं होगा और हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे.

पिछले 65 साल में अधिकांश समय पाकिस्तान की सत्ता सेना के हाथों रही है. ऐसे में कयानी के बयान को देखते हुये आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तान के लोकतंत्र पर सेना कहीं एक बार फिर सेना हावी न हो जाये.