पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

जेठमलानी पगला गये हैं

जेठमलानी पगला गये हैं

नई दिल्ली. 9 नवंबर 2012

राम जेठमलानी


भाजपा सांसद और मशहूर वकील राम जेठमलानी के बयान पर हिंदू संतों ने आपत्ति दर्ज करते हुये कहा है कि जेठमलानी पागल हो गये हैं. संतों ने जेठमलानी को माफी मांगने के लिये कहा है और ऐसा नहीं करने पर उन्हें इसका अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है. इधर विश्व हिंदू परिष्द के प्रवीण तोगड़िया ने भी राम जेठमलानी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ऐसा कह कर जेठमलानी ने अपने पिता का अपमान किया है जो एक राम भक्त थे और उन्ही के नाम पर उनका नाम राम रखा.

गौरतलब है कि राम जेठमलानी ने गुरुवार को कहा था कि राम बेहद बुरे पति थे. मैं उन्हें बिल्कुल ...बिल्कुल पसंद नहीं करता. कोई मछुवारों के कहने पर अपनी पत्नी को वनवास कैसे दे सकता है. वे गुरुवार को स्त्री-पुरुष संबंधों पर लिखी गई एक किताब का विमोचन करने के बाद अपने विचार व्यक्त कर रहे थे.

राम जेठमलानी ने कहा था कि राम के अलावा उनके भाई लक्ष्मण तो और बुरे थे. लक्ष्मण की निगरानी में ही सीता का अपहरण हुआ और जब राम ने उन्हें सीता को ढूंढने के लिए कहा तो उन्होंने यह कहते हुए बहाना बना लिया कि वह उनकी भाभी थीं. उन्होंने कभी उनका चेहरा नहीं देखा, इसलिए वह उन्हें पहचान नहीं पाएंगे.

जेठमलानी का बयान ऐसे समय में आया है, जब भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने विवेकानंद और दाऊद इब्राहिम के आईक्यू को एक बताकर अपनी फजीहत करा ली थी और खुद जेठमलानी ने गडकरी के इस बयान को मूर्खतापूर्ण बताया था. इसके अलावा भाजपा नेता सुषमा स्वराज एक फिल्मी गाने सेक्सी राधा को लेकर मोर्चा खोले हुई हैं.

जेठमलानी के बयान पर अयोध्या के रामानंद दास ने कहा है कि राम जेठमलानी क़ानून विद हो सकते हैं लेकिन धर्म शास्त्र के ज्ञाता नहीं हो सकते. उनको शास्त्रीय परम्पराओं का बोध नहीं है. साधु समाज का कहना है कि लोगों की धार्मिक भावनाओं से वो खेलें और आस्था को चोट पहुंचाएं, ये हक उन्हें किसी ने नहीं दिया है.