पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

केजरीवाल ने खोले स्विस बैंक के राज

केजरीवाल ने खोले स्विस बैंक के राज

नई दिल्ली. 9 नवंबर 2012

अरविंद केजरीवाल


अरविंद केजरीवाल ने सनसनीखेज रहस्योद्घाटन करते हुये कहा है कि एचएसबीसी बैंक की स्विटजरलैंड शाखा में अकेले 2006 तक 700 भारतीयों के 6 हजार करोड़ रुपये जमा थे. केजरीवाल ने आरोप लगाया कि भारत सरकार के पास इन सभी लोगों की लिस्ट है लेकिन 2011 में यह लिस्ट मिलने के बाद भी मनमोहन सिंह की सरकार ने इस मामले में 3 छोटी कंपनियों को छोड़कर किसी पर कोई कार्रवाई नहीं की.

इंडिया अगेंस्ट करप्शन के अरविंद केजरीवाल ने दावा किया कि जिन लोगों का नाम इस लिस्ट में था, उनमें अंबानी परिवार और रिलायंस ग्रूप भी शामिल है. लेकिन सरकार ने उन्हें बचाने का काम किया. केजरीवाल के अनुसार इन 700 लोगों में से कुछ ने सरकार को टैक्स जमा कर दिया और सरकार चुप्पी साध गई.

केजरीवाल के अनुसार एचएसबीसी की जिनेवा शाखा में अकाउंट रखने वाले 700 लोगों में मुकेश अंबानी के 100 करोड़, अनिल अंबानी के100 करोड़, मोटेक सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड (रिलायंस ग्रुप की कंपनी) के 2100 करोड़, रिलायंस इंडस्ट्रीज के 500 करोड़, जेट एयरवेज के मालिक नरेश गोयल के 80 करोड़ और डाबर समूह वाले बर्मन परिवार के 25 करोड़ रुपये जमा थे. केजरीवाल के दावे के मुताबिक, उन्नाव से कांग्रेस की सांसद और राहुल गांधी की करीबी अनु टंडन के नाम भी 125 करोड़ रुपये हैं. केजरीवाल के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय में अधिकारी रह चुके संदीप टंडन के स्विस बैंक में 125 करोड़ रुपये जमा हैं. उन्होंने अंबानी के ठिकानों पर छापेमारी की थी लेकिन बाद में वो अंबानी बंधुओं के करीबी बन गए. यही नहीं उनके दोनों बेटे रिलायंस में ही काम करते हैं. टंडन का देहांत हो चुका है.

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि सरकार को जब 2011 में लिस्ट मिली तो आयकर विभाग ने 28 जुलाई, 2011 को तीन घरानों पर छापेमारी की. इन तीन घरानों के कुल जमा 8 से 15 करोड़ रुपये स्विस खातों में जमा थे. लेकिन 100 करोड़ और 1000 करोड़ रुपये रखने वालों के घर छापामारी नहीं की गई.

दुनिया की दूसरी सरकारों का हवाला देते हुये अरविंद केजरीवेल ने कहा कि अमरीका को पता चला कि उसके नागरिक स्विट्जरलैंड में एचएसबीसी बैंक में पैसे जमा कर रहे हैं, तो उसने चुस्ती दिखाते हुए सारी रकम निकलवा ली. लेकिन भारत सरकार ने ऐसा करने का जज्बा नहीं दिखाया. उन्होंने कहा कि एसबीआई में खाता खोलने के लिए पूरे कागजों के साथ बैंक जाना पड़ता है, लेकिन स्विस बैंक में खाते के लिए सिर्फ फोन घुमाने की जरूरत है और उनके अधिकारी शाम को ही आपके घर आ जाते हैं.

अरविंद केजरीवाल ने सरकार से मांग की कि आतंकवाद, किडनैपिंग और हवाला के कारोबार को बढ़ावा देने के लिए देश के भीतर एचएसबीसी बैंक के शीर्ष अधिकारी को गिरफ्तार करना चाहिए.

केजरीवाल ने कहा कि हमारे पिछले खुलासे के बाद भाजपा ने कहा था कि हम घोटालों की साप्तााहिक मंडी लगाते हैं, लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि इतने सारे घोटाले हैं कि हमें रोजाना ही एक मंडी लगानी पड़ेगी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in