पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

राखी सावंत को किसी के बाप का डर नहीं

राखी सावंत को किसी के बाप का डर नहीं

नई दिल्ली. 12 नवंबर 2012

राखी सावंत


अगंभीर बयानों के लिये चर्तित फिल्म अभिनेत्री राखी सावंत नेताओं को आइना दिखा गई हैं. उन्होंने कहा है कि नेताओं को अपने काम पर ध्यान देना चाहिये. राखी सावंत ने कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह को जवाब देते हुये कहा है कि मैं एक्सपोज करती हूं और मुझे किसी के बाप का डर नहीं है. इधर दिग्विजय सिंह ने कहा है कि वे राखी सावंत के पुराने फैन हैं और उन्होंने यह ट्विट केवल मजाक के लिहाज से किया था.

गौरतलब है कि कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने ट्विट किया था कि अरविंद केजरीवाल और राखी सावंत एक ही तरह की हरकतें कर रहे हैं. दोनों के पास दिखाने के लिए कुछ नहीं है.

अब राखी सावंत ने दिग्विजय सिंह पर भड़कते हुये कहा कि यह मेरा शरीर है और मेरा अपना व्यक्तित्व है. उन्होंने सवाल करने वाले अंदाज में कहा कि दिग्विजय सिंह ने कैसे मेरा नाम लिया और कैसे मेरी तुलना केजरीवाल भाई के साथ की. राखी ने कहा कि मैंने किसी से टांगे उधार मांगी हैं क्यान? और हां मैं एक बम हूं, जब फटूंगी तो सब फट जाएंगे.

राखी ने कहा कि कभी कोई मिका, कभी कोई चिका, कभी दिग्विजय सिंह तो कभी बाबा रामदेव, जिसकी जब मर्जी होती है, बोलने लग जाता है. क्या इन सब के पास कोई काम नहीं है. राखी सावंत ने कहा कि इन नेताओं को अपने काम पर ध्यान देना चाहिये और मुझे निशाना बनाना बंद करने चाहिये.

राखी सावंत ने अरविंद केजरीवाल पर भी हमला बोलते हुये कहा कि केजरीवाल और मुझमें जमीन आसमान का फर्क है, वो नेता बनने के लिए देश की जनता का इस्तेमाल कर रहे हैं. ये तो बिजली की तार निकालकर अपने घर जाकर छुप जाता हैं लेकिन डंडे जनता पर पड़ते हैं. पानी की फुहारें जनता पर पड़ती हैं. जब केजरीवाल अन्ना के साथ थे तब मैं खुश थी. लेकिन अन्ना ने जब चाय में मक्खी की तरह केजरीवाल को बाहर निकाला तो हमें पता चला कि केजरीवाल को गरीबी या लोगों से कोई मतलब नहीं है, वो तो बस अपनी पार्टी बनाकर नेता बनना चाहते है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in