पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय >पाकिस्तान Print | Share This  

फिर होगी पाक में फांसी

फिर होगी पाक में फांसी

इस्लामाबाद. 15 नवंबर 2012. बीबीसी हिंदी डॉटकॉम

पाकिस्तान में ऱांसी की सज़ा


पाकिस्तान में एक पूर्व सैनिक को फांसी पर लटकाया गया है. पिछले चार में ये पहला मामला है जब वहां किसी व्यक्ति को फांसी दी गई है. मोहम्मद हुसैन को अपने एक वरिष्ठ अधिकारी की हत्या करने के लिए चार साल पहले मौत की सजा सुनाई गई थी.

जेल के उप अधीक्षक मोहम्मद मंशा के अनुसार मोहम्मद हुसैन को फांसी दिए जाते समय सेना और न्यायापालिका के अधिकारी भी मौजूद थे. उन्हें गुरुवार को पंजाब प्रांत की एक जेल में फांसी दी गई. उनकी सभी दया याचिकाओं को खारिज कर दिया गया.

सूत्रों के अनुसार चार साल पहले पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सत्ता में आने के बाद से फांसी दिए जाने पर अघोषित तौर पर रोक लगाई गई थी. हर तीन महीने में राष्ट्रपति कार्यालय से एक पत्र जारी होता है कि सभी मौत की सजाओं पर रोक है. पिछले कुछ सालों से नियमित रूप से ऐसा होता आया है.

अब तक मिली जानकारी के अनुसार ये अभी स्पष्ट नहीं है कि हुसैन के मामले को क्यों इस नियम का अपवाद माना गया. कुछ विश्लेषकों का मानना है कि इसकी वजह हो सकती है कि उन पर एक सैन्य अदालत में मुकदमा चला था. माना जाता है कि पाकिस्तान में लगभग ऐसे आठ हजार लोग हैं जिन्हें मौत की सजा मिली हुई है. मानवाधिकार समूहों का कहना है कि ये आंकड़ा दुनिया भर में सबसे ज्यादा मौत की सजा पाने वाले लोगों में से एक है.

पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्टों का कहना है कि राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने दिसंबर 2011 में हुसैन की दया याचिका खारिज कर दी थी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in