पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >व्यापार > Print | Share This  

वालमार्ट के भारतीय निवेश की जाँच करेगा ईडी

वालमार्ट के भारतीय निवेश की जाँच करेगा ईडी

बेंगलुरु. 16 नवंबर 2012

walmart india

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जल्द ही दिग्गज खुदरा व्यापार कंपनी वालमार्ट को उसके भारत में निवेश के संबंध में विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के उल्लंघन का नोटिस जारी कर सकता है. माना जा रहा है कि अपने नोटिस में निदेशालय वालमार्ट से उसके निवेश से संबंधित कागजात मांगेगा. निदेशालय भारतीय रिजर्व बैंक के कहने पर वालमार्ट के खिलाफ विदेशी मुद्रा के गलत प्रबंध के संबंध में जाँच कर रहा है

वालमार्ट पर आरोप है कि उसने भारत में घरेलू मल्टीब्रांड रिटेल सीरीज में निवेश किया जबकि इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर प्रतिबंध था. मिली जानकारी के अनुसार वालमार्ट ने मॉरिशस स्थित एक फर्म के जरिए 2010 में भारती वेंचर्स की एक अनुषंगी कंपनी में निवेश किया, लेकिन उस समय भारत में घरेलू मल्टीब्रांड रिटेल सीरीज में निवेश पर प्रतिबंध था.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुछ समय पहले प्रवर्तन निदेशालय को भारतीय रिजर्व बैंक से वालमार्ट के इस निवेश की जाँच करने संबंधी एक पत्र मिला था जिसके बाद निदेशालय ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के अंतर्गत ये मामला दर्ज कर लिया है. अब प्रवर्तन निदेशालय जल्द ही कंपनी को दी गई मंजूरी का ब्यौरा वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय से मांग सकता है. साथ ही निदेशालय इस मामले में फेमा और मनी लांडरिंग एक्ट के तहत जांच कर रहा है.

हालांकि वालमार्ट के भारतीय सहयोगी भारती इंटरप्राइजेस ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि निवेश की सारी प्रक्रिया घरेलू कानूनों की देखरेख में पूरी की गई है. भारती का कहना है कि उसने किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है और उसके द्वारा अपनाई गई सारी प्रक्रिया कानूनसम्मत है.

 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ghanshyam [ghanshyam.abgp@gmail.com] bhopal - 2012-11-17 07:06:28

 
  बेस्ट प्राइज के स्टोर में ख़राब से ख़राब माल बेचा जा रहा हे । 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in