पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >बिहार Print | Share This  

छठ पूजा भगगड़ में कई की मौत

छठ पूजा भगगड़ में कई की मौत

पटना. 20 नवंबर 2012 बीबीसी

छठ पूजा


पटना में छठ पूजा के दौरान सोमवार शाम हुई भगदड़ में 14 लोगों की मौत हो गई है जबकि काफी लोगों के घायल होने की आशंका जताई जा रही है.

मारे जाने वाले लोगों में नौ बच्चे शामिल हैं. अपुष्ट खबरों के अनुसार मृतकों की संख्या 21 तक हो सकती है. मंगलवार सुबह पटना के घाटों पर भारी भीड़ सुबह की अर्ध्य देने पंहुच रहे हैं. जिस घाट पर हादसा हुआ था वहां हज़ारों की संख्या में पुरुष और महिला पुलिस बल तैनात किए गए हैं.

लेकिन अभी भी कुछ परिजन अपने लोगों की तलाश कर रहे हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हादसे पर शोक जताया है और मृतकों के परिवार को दो लाख रुपये मुआवज़े की घोषणा की है.

पटना में देर रात 11 बजे एक संवाददाता समेल्लन में मुख्यमंत्री ने कहा कि पुल टूटने से हादसा नहीं हुआ बल्कि भीड़ का रास्ता दूसरे पुल की तरफ कर देने से मची भगदड़ में ये हादसा हुआ. उन्होंने कहा, "भगदड़ क्यो मची और बिजली के तार के गिरने की बात की जांच राज्य के गृह सचिव से कराई जा रही है."

घायलों को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया. लेकिन अस्पताल में घायलों के तुरंत इलाज की पूरी व्यवस्था नहीं थी. भीड़ के गुस्से को देखकर कुछ चिकित्सक भी वहां से हट गए जिस कारण कुछ घंटों तक इलाज संभव नहीं हो सका. अनुचित व्यवस्था को देखकर लोग रोष में आ गए और भीड़ ने वहां मौजूद पुलिस बल पर पथराव किया जिसके बाद पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा.

पटना शहर के पुलिस कप्तान जयंत कांत का कहना है कि वहां बनाया गया लकड़ी का पुल कमजोर था जो धंस गया. जिसके बाद लोगों को लिए दूसरा रास्ता तैयार किया गया था लेकिन जब लोग वहां से जा रहे थे कि भगदड़ मच गई.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बीबीसी को बताया कि लकड़ी का पुल बहुत कमज़ोर होने कारण टूट कर धसने लगा, जिसके चलते लोगों में हड़कंप मच गया. इसके बाद लोग इधर-उधर भागने लगे.

पटना के लोहानीपुर इलाके की एक महिला प्रीति कुमारी, जिसका बच्चा इस भगदड़ में मर गया, ने रोते हुए बीबीसी संवाददाता से कहा, “कोई यहां सुरक्षा की तैनाती नहीं थी. इतनी ज्यादा भगदड़ मची की बच्चों को लेकर कई महिलाएं गिर गईं, मैनें खुद कई महिलाओं को गिरते हुए देखा.”

लोगों का कहना है कि प्रशासन बिजली का तार गिरने को वजह बताकर मामले पर पर्दा डाल रहा है. हादसा शहर के अदालतघाट पर हुआ. लोग छठ पूजा के लिए शाम का अर्घ्य देने घाट पर पहुंचे थे. उस क्षेत्र में बिजली के इंतजाम भी पुख्ता नहीं थे और अंधेरा होने की वजह से लोग ज्यादा परेशान गए और एक दूसरे पर गिरने लगे.

राष्ट्रीय जनता दल नेता लालू प्रसाद यादव ने घटना पर दुख जताया. पत्रकारों से उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार ने पुख्ता इंतजाम की गारंटी दी थी और करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद भी ये हादसा हो गया. उन्होंने कहा कि, "नीतीश कुमार ने लोगों को राम भरोसे छोड़ दिया."

इससे पहले, राजद प्रवक्ता रामकृपाल यादव ने भारतीय टेलीविजन चैनल आजतक पर नीतीश सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाया. उन्होंने कहा “एक दिन पहले नीतीश खुद घाट का मुआयना करने आए थे इसके बावजूद उन्होंने नहीं देखा और इतना बड़ा हादसा हो गया. इसके लिए सरकार जिम्मेदार है.”

घटना स्थल पर नीतीश कुमार के खिलाफ लोग जमकर नारेबाजी कर रहे हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in