पहला पन्ना > मुद्दा Print | Send to Friend 

कई राज्यों में भीषण गर्मी

कई राज्यों में भीषण गरमी

नई दिल्ली. 5 मई, 2008

 देश के कई राज्यों में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है. मौसम विज्ञानियों ने अगले दो दिनों में आसमान में बादल छाए रहने तथा कुछ स्थानों पर आंधी-तूफान की भविष्यवाणी की है. इससे लोगों को बढ़ते तापमान से तो राहत मिलने की उम्मीद है लेकिन मौसम में बदलाव कई नई दिक्कतें खड़ी कर सकता है.

नई दिल्ली में भीषण गर्मी के कारण छुट्टी का दिन यानी रविवार लोगों ने घर में दुबककर बिताया. सूरज ने सुबह से ही तेवर कड़े कर लिये थे तो लू के थपेड़े भी लोगों की हालत पतली कर रहे थे. उत्तर भारत के अधिकांश इलाकों में ऐसी ही स्थिति रही. हालांकि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शाम को चली धूल भरी आंधी और कई इलाकों में हुई बूंदाबांदी से लोगों ने थोड़ी राहत भी महसूस की. कई जगह तो ओले भी गिरे. मौसम विभाग के मुताबिक मौसम के रुख में एकाएक हुए इस बदलाव का कारण जम्मू कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ का बनना है. इससे सोमवार को भी न सिर्फ आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे, बल्कि धूल भरी आंधी चलने की भी संभावना है.

जहां तक पारे की बात है तो वह एक दो दिन ढीला ही रहेगा. हिमाचल प्रदेश में गर्मी का कहर जारी है. रविवार को सिरमौर जिले के कालाअंब में तापमान 48 डिग्री के करीब पहुंच गया, जबकि धर्मशाला में सीजन की सबसे गर्म रात रही. ऊना, धर्मशाला व शिमला में भी पारा लगातार चढ़ता जा रहा है. 48 घंटे के दौरान हालांकि मौसम विभाग ने प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की बौछारे पड़ने की संभावना जताई है. लू के थपेड़े व भीषण गर्मी की तपिश में समूचा उड़ीसा झुलस रहा है. गर्मी ने पिछले चार साल के रिकार्ड को तोड़ दिया है. भीतरी उड़ीसा समेत तटीय इलाकों में तापमान 40 डिग्री से ऊपर चला गया है. मौसम विभाग ने बताया कि राज्य में गर्मी का कोप अगले 48 घंटे तक जारी रहेगा.

कुछ तटीय शहरों में थोड़ी राहत की उम्मीद की जा सकती है. पिछले दिनों बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के कारण वायुमंडल में नमी की कमी हो गई है, जिससे गर्मी का एहसास ज्यादा हो रहा है. इस बीच राज्य में अब तक लू से मरने वालों की संख्या 64 तक पहुंच गई है, लेकिन सरकारी तौर पर केवल 13 लोगों के मरने की पुष्टि की गई है.

 

कोलकाता में लगभग 40 मिनट तक आए तेज गति वाले तूफान के कारण यहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हवाई यातायात बाधित हो गया. बेंगलूर से कोलकाता जा रहे इंडिगो विमान को भुवनेश्वर की ओर रवाना कर दिया गया जबकि चार अन्य विमान काफी देर तक हवाई अड्डे के ऊपर ही उड़ान भरते रहे. दिल्ली और बेंगलूर जाने वाले दो विमानों की रवानगी में खराब मौसम के चलते लगभग एक घंटे की देरी हुई.

 

शुष्क हवाओं का कहर समूचे राजस्थान में जारी रहा. आसमान में बादल छाए रहने के कारण सूर्य कुछ समय तक छिपा रहा. मौसम विभाग ने अगले दो दिनों में तापमान में गिरावट आने का अनुमान व्यक्त किया है.