पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

आम आदमी पार्टी पर राजनीति के तीर

आम आदमी पार्टी पर राजनीति के तीर

नई दिल्ली. 24 नवंबर 2012

अरविंद केजरीवाल


समाजसेवी अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी यानी ‘आप’ के गठन की घोषणा के साथ ही राजनीतिक तीर चलने शुरु हो गये हैं. भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही अरविंद की नई पार्टी पर चुटकी ली है. इस बीच अरविंद केजरीवाल ने 26 नवंबर को जंतर-मंतर पर अपनी आम आदमी पार्टी के लोकार्पण की बात कही है.

पत्रकारों से बातचीत करते हुये अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वे न तो राजनीति करने के लिये पार्टी बना रहे हैं और ना ही चुनाव लड़ना उनका उद्देश्य है. अरविंद का कहना था कि उन्होंने भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये पार्टी बनाई है.

अरविंद केजरीवाल के अनुसार आम आदमी पार्टी का संविधान और कामकाज की रुपरेखा लोगों के सामने रखी जाएगी. इस पार्टी में भाजपा-कांग्रेस की तरह अध्यक्ष या वाम दलों की तरह महासचिव का पद नहीं होगा, इनकी जगह राष्ट्रीय संयोजक होगा.

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि अरविंद पार्टी का नाम आम रखें चाहे ख़ास रखें, चुनाव के मैदान में आए हैं तो अब तक जो कहते हैं उन्हें करने का वक़्त आया है. जिन मुद्दों को लेकर अबतक वो सबको कठघरे में खड़ा करते रहे हैं, अगर उसमें वे बेहतरी ला सकें तो हम खुश होंगे.

इधर अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को लेकर कांग्रेस के बड़बोले प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा है कि एक लोकतांत्रिक देश में पार्टी बनाना उनका हक है. भारत में करीब 1300 राजनीतिक दल हैं, अगर इसमें एक और शामिल हो जाएगा तो लोकतांत्रिक व्यवस्था और मजबूत होगी. कांग्रेस के ही दिग्विजय सिंह ने अरविंद केजरीवाल को बधाई देते हुये कहा है कि अब अन्ना हजारे को भी पार्टी बनानी चाहिये. उसके बाद जैसा चाहे लोकपाल बिल लाएं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Satya Prakash [satyaprakash1957@gmail.com] Lucknow - 2012-11-24 11:47:53

 
  We are hudred percent in support of you but I am very sorry that u are not going in the field of election.So U can not fulfill ur aim without power. actually we are waiting the time to u forfighting election & make ur Govt.but we are too much disappionted.In election we have no any new alternate of the party and the problem will remain same in future.To support ur mob is not the solution of ur aim.The rulling pary will take revenge from ur supporters.So u should join the election & form the Govt.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in