पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >समाज Print | Share This  

कामसूत्र-3डी के पास एक भी वितरक नहीं

कामसूत्र-3डी के पास एक भी वितरक नहीं

पणजी. 24 नवंबर 2012

कामसूत्र-3डी


गोवा में चल रहे 43वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में शर्लिन चोपड़ा की 'कामसूत्र-3डी' को लेकर निर्देशक रुपेश पॉल ने कुछ ज्यादा ही भरोसा पाल रखा है. हालांकि पूरे देश में उन्हें अब तक इस फिल्म का एक भी डिस्ट्रीब्यूटर नहीं मिला और इसकी कोई उम्मीद भी नजर नहीं आ रही.

जाहिर है, ऐसे में फिल्म के निर्देशक रुपेश पॉल अपनी इस फिल्म के प्रचार-प्रसार के लिये सारी कोशिश कर रहे हैं. सारी कोशिश यानी साम, दाम, दंड, भेद. मसलन इस फिल्म को समारोह में दिखाये जाने से पहले रुपेश हरेक से इस बात का उल्लेख करना नहीं भूल रहे कि इस फिल्म के भारतीय संस्करण में तो कई दृश्य हटाये गये हैं लेकिन फिल्म के मूल संस्करण में फिल्म की हीरोइन शर्लिन चोपड़ा के पूर्णतः नग्न दृश्य भी हैं.

फिल्म में पूरी तरह नग्न दृश्य देने वाली शर्लिन चोपड़ा की तारीफ करते हुये रुपेश पाल यह भी बताते हैं कि उन्होंने कम से कम 30 हीरोइनों को इस फिल्म का ऑफर दिया था लेकिन सब ने मना कर दिया. कोई भी भारतीय हीरोइन पूरी तरह से नग्न दृश्य के लिये तैयार नहीं थी. रुपेश का कहना है कि शर्लिन ने जिस बेबाकी से फिल्म में काम किया है, वह उन्हें अभिनय के शीर्ष पर ले जाएगा. लेकिन रुपेश पाल को यह बात समझनी चाहिये कि नग्नता बेच कर भारत में फिल्म चला पाना मुश्किल है और जिसे वह अभिनय कह रहे हैं, उसे कम से कम भारतीय दर्शकों का बड़ा समूह अभिनय नहीं मानता. गीत-संगीत और देह की छौंक-बघार वाली फिल्में भले एक बार चल जायें, इसमें शक ही है कि कामसूत्र के नाम पर रुपेश फिल्म बेच पाएंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in