पहला पन्ना >राज्य >गुजरात Print | Share This  

मुस्लिम संगठन नहीं देंगे मोदी को माफी

मुस्लिम संगठन नहीं देंगे मोदी को माफी

नई दिल्ली. 25 नवंबर 2012

narendra modi


मुस्लिम संगठनों की संयुक्त समिति के संयोजक सैयद शहाबुद्दीन की गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र को सर्शत माफी दिए जाने की बात को उसी समिति में शामिल संगठनों ने खारिज कर दिया है. इन संगठनों ने शहाबुद्दीन द्वारा मोदी को लिखे गए खुले पत्र को खारिज करते हुए कहा है कि यह शहाबुद्दीन की निजी राय है.

उल्लेखनीय है कि सैयद शहाबुद्दीन 10 मुस्लिम संगठनों की एक संयुक्त समिति ‘ज्वाइंट कमिटी ऑफ मुस्लिम आर्गनाइजेशंस फॉर इम्पावरमेंट’ के संयोजक हैं और उन्होंने हाल ही में नरेंद्र मोदी को एक खुले पत्र में कहा था कि यदि वे 2002 के दंगों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांग लेते हैं तो उनकी समिति मुस्लिम वोटरों से उन्हें समर्थन देने की अपील कर सकती है.

शहाबुद्दीन ने यह भी कहा था कि मुसलमानों को लेकर मोदी के नजरिए में बदलाव आ रहा है. मोदी और भाजपा गुजरात विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय को खास तवज्जो दे रही है, लेकिन देश और प्रदेश का मुस्लिम समुदाय 2002 के दंगे भूला नहीं है. उन्होंने कहा कि हमने पत्र में जो 9 बातें लिखी हैं अगर मोदी उन पर सही तरीके से अमल करते हैं तो उनकी छवि पर इससे अच्छा असर पड़ेगा.

अब शहाबुद्दीन के इस पत्र के उन्हीं की समिति के संगठनों जमीयत उलेमा-ए-हिंद, जमात-ए-इस्लामी हिंद और मरकज जमीयत अहले हदीस ने खारिज करते हुए कहा है कि उनसे ऐसे किसी पत्र को लिखते समय कोई विचार-विमर्श नहीं किया गया है. इन संगठनों ने कहा है कि हमारा मानना है कि मोदी के लिए कोई माफी नहीं हो सकती और वे ही 2002 के गुजरात दंगों के लिए जिम्मेवार थे.