पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >महाराष्ट्र Print | Share This  

ठाकरे के स्मारक में कानून की परवाह नहीं

ठाकरे के स्मारक में कानून की परवाह नहीं

मुंबई. 26 नवंबर 2012

बाल ठाकरे


शिवाजी पार्क में बाल ठाकरे का स्मारक बनाये जाने के मुद्दे पर कांग्रेस और शिवसेना आमने-सामने आ गये हैं. इससे पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के राज ठाकरे भी शिव सेना के निर्णय का विरोध कर चुके हैं. इधर इन विरोधों के बीच शिव सेना ने कहा है कि उसके सुप्रीमो बाल ठाकरे की स्मृति में मुंबई के शिवाजी पार्क में स्मारक बन कर रहेगा.

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष शिव सेना नेता मनोहर जोशी ने नासिक में एक सभा में कहा कि अगर स्मारक बनाने के रास्ते में कोई कानून आड़े आता है तो शिव सेना उसकी भी परवाह नहीं करेगी. राज्य के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण पहले ही स्मारक के मुद्दे पर कह चुके हैं कि राज्य सरकार कानून का उल्लंघन करते हुए कुछ भी नहीं करेगी. इधर शिव सेना के इस रुख की आलोचना करते हुये कांग्रेस ने फिर कहा है कि पूर्व लोकसभाध्यक्ष का यह आचरण निंदनीय है.

बाल ठाकरे की स्मृति में आयोजित एक शोक सभा में शिवसेना नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी ने कहा कि शिवाजी पार्क में बालासाहेब के स्मारक के निर्माण में कोई कानून आता है तो भी हमें परवाह नहीं है. उन्होंने कहा कि बाल ठाकरे जैसे महान नेता के स्मारक के लिये कांग्रेस पार्टी छोटे-छोटे राजनीतिक विवाद पैदा कर रही है, जिसे शिव सेना बर्दाश्त नहीं करेगी.

मनोहर जोशी के इस बयान पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुये महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि मनोहर जोशी कोहिनूर भूमि स्थित अपनी संपत्ति से ध्यान बंटाने के लिए ठाकरे के स्मारक निर्माण को लेकर इतने अड़े हुए हैं. सावंत ने कहा कि कानून हाथ में लेने की उनकी भाषा निंदनीय हैं. वह लोकसभाध्यक्ष रह चुके हैं. हमें उनसे ऐसी उम्मीद नहीं थी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

पद्मनाभ गौतम [pmishra_geo@yahoo.co.in] आलंग, अरुणाचल-प्रदेश - 2012-11-26 05:08:29

 
  शिवसेना के साथ परवाह शब्द कहाँ पटरी खाता है?  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in