पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

केजरीवाल सत्ता और पैसे के लोभी-हज़ारे

केजरीवाल सत्ता और पैसे के लोभी-हज़ारे

नई दिल्ली. 6 दिसंबर 2012

anna hazare


सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने अपने हालिया बयान से पलटते हुए अपनी टीम के पूर्व सदस्य अरविंद केजरीवाल की आलोचना करते हुए कहा है कि केजरीवाल सिर्फ सत्ता के लोभी हैं. उल्लेखनीय है कि हज़ारे ने कुछ दिन पूर्व ही कहा था कि वे सिर्फ उन्हीं प्रत्याशियों के लिए प्रचार करेंगे जिन्हें केजरीवाल की “आम आदमी पार्टी (आप)” चुनावों में खड़ा करेगी. हालांकि अब उन्होंने केजरीवाल की पार्टी के लिए प्रचार करना तो दूर उसे अपना वोट देने से भी इंकार कर दिया.

एक समाचार चैनल द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यक्रम में अपने विचार प्रकट करते हुए अन्ना ने केजरीवाल पर जन कर निशाना साधा. उन्होंने केजरीवाल की नीयत पर शक करते हुए कहा कि उनकी पार्टी का ऐजेंडा कहीं न कहीं सिर्फ पैसों पर आधारित है. उन्होंने यह भी कहा कि केजरीवाल को सिर्फ सत्ता की भूख है और उनकी पार्टी अन्य पार्टियों की तरह ‘सत्ता के जरिये धन’ और ‘धन के जरिये सत्ता’ के रास्ते पर जा रही है.

वैसे गौरतलब है कि अन्ना हज़ारे इससे पहले भी बात-बात पर अपने पूर्व सहयोगी केजरीवाल की राजनीतिक मंशा पर प्रश्न खड़ा करते रहे हैं और फिर अपने बयानों से पलटते भी रहे हैं. कभी केजरीवाल की राजनीतिक मंशा को लेकर तो कभी उनकी पार्टी के लिए इंडिया अगेंस्ट करप्शन के नाम के इस्तेमाल को लेकर अन्ना ने केजरीवाल की आलोचना की है.

 

लेकिन केजरीवाल की पार्टी के प्रत्याशियों के लिए वोट करने के उनके हालिया बयान के बाद दोनों के बीच बेहतर संबंधों के बारे में कयास लगाए जा रहे थे. ऐसे में इतना जल्दी अन्ना का अपने बयान से पलटना उनकी विश्वसनीयता पर कहीं न कहीं संदेह पैदा करता है.