पहला पन्ना >राजनीति >बात Print | Share This  

संसद को भंग करने का समय-अन्ना

संसद को भंग करने का समय-अन्ना

नई दिल्ली. 11 दिसंबर 2012

अन्ना हजारे


समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि देश की संसद को भंग करने का समय आ गया है. संसद में बैठे लोग अन्य देशों को भारतीय बाजार में आने की अनुमति दे रहे हैं. अन्ना हजारे ने 30 जनवरी से पटना से केंद्र सरकार के खिलाफ अपनी यात्रा की शुरुवात करने की भी घोषणा की.

गौरतलब है कि अन्ना हजारे पिछले कुछ समय से अस्पताल में भर्ती थे. तनाव और अपच की शिकायत के बाद उन्हें मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें सोमवार को ही अस्पताल से छुट्टी मिली.

एफडीआई को लेकर हुई वोटिंग और लॉबिंग को लेकर लेन-देन की खबरों से नाराज अन्ना हजारे ने कहा कि बिना आग के धुआं नहीं उठता. अन्ना ने सरकार को चेतावनी देते हुए एक बार फिर से दोहराया कि अगर अगले लोकसभा चुनाव से पहले जनलोकपाल कानून नहीं बना तो आंदोलन होगा.

अन्ना हजारे ने कहा कि मैं 30 जनवरी को बिहार के पटना से केंद्र सरकार और भ्रष्टाचार के खिलाफ यात्रा शुरू करूंगा. अन्ना हजारे ने कहा कि संसद भंग करने का समय आ गया है. संसद में बैठे लोग अन्य देशों को भारतीय बाजार में आने की अनुमति दे रहे हैं.