पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

स्पीड पोस्ट सेवा जल्द होगी हाइटेक

स्पीड पोस्ट सेवा जल्द होगी हाइटेक

नई दिल्ली. 14 दिसंबर 2012


केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री कपिल सिब्बल का कहना है कि 12वीं पंचवर्षीय योजना में स्पीड पोस्ट प्रणाली को हाइटेक बनाया जाएगा और इलेक्ट्रिक माध्यमों से इसकी निगरानी की जा सकेगी. राज्यसभा में अल्पकालिक सूचना प्रश्न का जवाब देते हुए सिब्बल ने माना कि डाक विभाग में डाकियों और कर्मचारियों की कमी के कारण तथा आधार कार्ड को काफी संख्या में भेजे जाने के कारण स्पीड पोस्ट मिलने में लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

सिब्बल ने स्पीड पोस्ट सेवा के जरिए भेजे जाने वाली डाक के मिलने में हो रही देरी को स्वीकारते हुए कहा कि हालांकि स्पीड पोस्ट के वितरिण में कई कारणों से खामियां हैं लेकिन इन तमाम शिकायतों के बावजूद भारतीय स्पीड पोस्ट सेवा की बाजार भागीदारी दूसरे स्थान पर है जिससे पता चलता है कि देश के अधिकतर लोग आज भी इस पर भरोसा करते हैं. इससे संबंधित आंकडे साझा करते हुए उन्होने बताया कि अभी भी भारतीय डाक सेवा का राजस्व और डाक ट्रैफिक 20 प्रतिशत सालाना की दर से बढ़ रहा है.

श्री सिब्बल ने कहा कि स्पीड पोस्ट सेवा के अंतर्गत महानगरों में दो दिन और अन्य शहरों में 6 दिन के अंदर स्पीड पोस्ट भेजने का नियम है लेकिन कई बार सुदूर इलाकों में डाकियों की कमी से इसमें विलंब हो जाता है. हालांकि 12वीं पंचवर्षीय में इस सुविधा को बेहतर बनाने की बात करते हुए उन्होंने बताया कि निकट भविष्य में स्पीड पोस्ट प्रणाली को इलेक्ट्रॉनिक रूप दिया जाएगा जिससे न केवल इसका उन्नयन होगा बल्कि इससे हर स्पीड डाक की स्थिति का पता भी सटीकता से लगाया जा सकेगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in