पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

बीटी कॉटन के चक्रव्यूह से निकलना जरूरी

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

बीटी कॉटन के चक्रव्यूह से निकलना जरूरी

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

मानव मन और शहर का जल-थल

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >उड़ीसा Print | Share This  

मंत्रीजी ने रेलकर्मी को क्यों बनाया मुर्गा

मंत्रीजी ने रेलकर्मी को क्यों बनाया मुर्गा

लखनऊ. 22 दिसंबर 2012

AZAM KHAN


उत्तरप्रदेश के कैबिनेट मंत्री आज़म खान द्वारा एक रेलकर्मी को थप्पड़ मारने और उसे मुर्गा बनाने को लेकर विवाद गहराता जा रहा है. रेलकर्मियों ने कहा है कि आज़म खान के खिलाफ अगर कार्रवाई नहीं हुई तो वे हक की लड़ाई के लिए सड़कों पर उतर जाएंगे. इधर विपक्ष ने भी आज़म खान की इस कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा है कि सपा सरकार का असली चेहरा अब उज़ागर हो गया है.

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश के शहरी विकास मंत्री आज़म खान मंगलवार की रात 3005 अप अमृतसर-हावड़ा ट्रेन के एसी कोच के सी केबिन में सफर कर रहे थे. ट्रेन में चढ़ने के बाद वहां रखे बेडरोल साफ-सुथरे न पाए जाने पर आज़म खान ने कोच अटेंडेंट निर्मल मुर्मू को बुलाकर इसके बारे में जवाब-तलब किया. इस पर कोच अटेंडेंट निर्मल मुर्मू ने कहा कि उसके पास ऐसे ही बिस्तर हैं.

बस इतना सुनना था कि आज़म खान तैश में आ गए और उन्होंने अटेंडेट निर्मल मुर्मू को तमाचे जड़ दिए. अटेंडेंट की पिटाई करने के बाद भी मंत्रीजी का जब मन नहीं भरा तो उन्होंने अटेंडेट को मुर्गा बना दिया. इधर आज़म खान के साथ सफर कर रहे उनके समर्थकों ने बाकी अटेंडेंटो को भी बुला लिया और उन्हें भी मुर्गा बना दिया और उन्हें भी पीटा. मामला तब शांत हुआ जब मुर्गा बने हुए अटेंडेंटो ने उनसे माफी मांगते हुए बख्श दिए जाने की गुहार लगाई.

बताया जा रहा है कि इसके बाद आज़म खान ने उसे ये कह कर बख्शा कि पंजाब मेल अगर यूपी होकर गुजरेगी तो इसमें व्यवस्था सुधारनी होगी. इसके बाद गुरुवार शाम अमृतसर जीआरपी थाना में पंजाब मेल के सभी अटेंडेंट्स ने लिखित शिकायत दर्ज करवाई है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

sundser lohia [lohiasunder2@gmail.com] mandi himachal pradesh - 2012-12-22 05:33:30

 
  इस नवाबी मानसिकता के खिलाफ आवाज़ उठानी चाहिए उन लोगों को जो राम मनोहर लोहिया को अपना गाइड फिलॉसोफर मानते हैं. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in