पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

रेप कानून में बदलाव के लिये कमेटी

रेप कानून में बदलाव के लिये कमेटी

नई दिल्ली. 24 दिसंबर 2012

रेप


केंद्र सरकार ने गैंग रेप की घटना के बाद देश भर में चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच रेप से संबंधित कानूनों में बदलाव के लिये कमेटी का गठन कर दिया है. रेप और छेड़छाड़ से संबंधित कानून की समीक्षा के लिए कमेटी के गठन की अधिसूचना भी गृह मंत्रालय ने जारी कर दी है. इस कमेटी में गृहमंत्री, रक्षा मंत्री, कानून मंत्री, महिला एवं बाल विकास मंत्री, वित्त मंत्री के अलावा कानूनविद जस्टिस जेएस वर्मा और लीला सेठ तथा गोपाल सुब्रमण्यम शामिल किये गये हैं. यह कमेटी इस नोटिफिकेशन पर तीस दिनों के अंदर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी.

गृह मंत्रालय द्वारा जारी इस अधिसूचना में कहा गया है कि मौजूदा कानून में संशोधन आवश्यक था क्योंकि इस कानून के जरिए पीड़िता को न्याय मिलने में देरी हो रही थी और दोषियों को सजा भी कम मिल रही थी. ऐसे में इस अधिसूचना के तहत सरकार ने इन दोनों क्षेत्रों में संशोधन का प्रस्ताव दिया है और इस प्रस्ताव में बलात्कार के मामले के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 376 में संशोधन करने और सीआरपीसी में संशोधन कर बलात्कार के मामलों में दोषी को जमानत न दिए जाने के साथ साथ पेरोल पर न छोडऩे की सिफारिश की गई है.

रेप मामलों को लेकर जारी इस अधिसूचना में इस बात का भी उल्लेख है कि बलात्कार के दोषियों के लिए सजा ए मौत देने पर विचार किया जाए. इसके साथ ही एविडेंस एक्ट में भी सुधार की सिफारिश की गई है जिसमें पीड़िता के बयान और सरकारी वकील के तर्कों को ही साक्ष्य मानकर न्यायालय उस पर दोषी पर सजा मुकर्रर करे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in