पहला पन्ना >व्यापार > Print | Share This  

किंगफिशर की उड़ाने अभी नहीं

किंगफिशर की उड़ाने अभी नहीं

नई दिल्ली. 29 दिसंबर 2012


किंगफिशर एयरलाइंस के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं. बताया जा रहा है कि नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने किंगफिशर के रिवाइवल रिपोर्ट पर अपनी नाखुशी जताई है और किंगफिशर से इस प्लान की फंडिंग का पुख्ता भरोसा मांगा है. ऐसे में किंगफिशर एयरलाइंस के विमानों का फिर से विमान में उड़ान भरना मुश्किल दिख रहा है.

डीजीसीए ने इसके संबंध में किंगफिशर से लिखित में जानकारी मांग कर यह स्पष्ट कर दिया है कि वह चाहता है कि किंगफिशर पहले अपने देनदारों से बात कर समस्याओं का हल निकाले

सूत्रों के अनुसार किंगफिशर के वाइस प्रेसिडेंट हितेश पटेल ने शनिवार को डीजीसीए के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात कर कहा है कि उन्हें यूबी ग्रप से फंडिंग मिलने का भरोसा है. लेकिन डीजीसीए ने किंगफिशर के पिछले रिकॉर्ड देखते हुए उससे कहा है कि वह इस फंडिंग पर मजबूत प्लान के साथ प्रतिबद्धता दिखाए. डीजीसीए की तरफ से किंगफिशर एयरलाइंस के लिए कोई टाइम फ्रेम नहीं दिया गया है.

गौरतलब है कि इससे पहले लगातार घाटे के कारण हिस्सेदारी बेचने समेत तमाम तरह की खबरों के बीच किंगफिशर एयरलाइंस ने एक रिवाइवल रिपोर्ट पेश कर एक बार फिर से अपनी विमानन सेवाओं को शुरु करने की योजना नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को सौंपी थी. लेकिन डीजीसीए ने उसकी योजनाओं पर ज्यादा ध्यान न देते हुए उसे अपनी फंडिंग के संबंध में पुख्ता सबूत पेश करने को कह दिया है.