पहला पन्ना >कला >समाज Print | Share This  

हनी सिंह की सफाई-पोर्न गीत मेरा नहीं

हनी सिंह की सफाई-पोर्न गीत मेरा नहीं

नई दिल्ली. 2 जनवरी 2013

हनी सिंह


अश्लील और घटिया गीत गाने वाले हनी सिंह का कहना है कि जिस गाने को लेकर विवाद हुआ है, उसे उन्होंने नहीं लिखा है. हनी का कहना है कि जो कुछ वह आसपास सुनते हैं, उसे ही अपने गीत के बोल बनाते हैं. उन्हें बेवजह विवाद में धकेला जा रहा है.

गौरतलब है कि वर्ष 2012 में यूट्यूब में सर्वाधिक प्रचलित 10 वीडियो में जगह बनाने वाले गायक हनी सिंह के एक अत्यंत अश्लील गीत को लेकर विवाद शुरु हो गया. आरोप है कि हनी सिंह के इस गीत से गैंगरेप को बढ़ावा मिलेगा. हनी सिंह के इस अत्यंत घटिया और अश्लील गीत को लेकर देश के कई पत्रकारों-लेखकों ने भी विरोध दर्ज किया है. हनी सिंह ने 'कॉकटेल' और 'खिलाड़ी 786' फिल्म में भी गीत गाये हैं. हनी के ताजा गाने को लेकर हुये ऑनलाइन विरोध के बाद नये साल की पूर्व संध्या पर उनका एक आयोजन भी रद्द कर दिया गया है. इसके अलावा उनके खिलाफ एक एफआईआर भी दायर की गई है.

इस बारे में लखनऊ के आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने थाने में एक एफआईआर दर्ज कराते हुये कहा है कि हनी सिंह द्वारा अन्य लोगों, जिनके नाम श्री बादशाह, श्री दिलजीत दोसांझ बताए जाते हैं, के साथ मिल कर गाये कुछ ऐसे गानों के बोल अश्लीलता, भद्देपने, ओछेपन, गंदेपन की समस्त सीमाओं को पार करते हैं. इनमे एक गाना “मैं हूँ बलात्कारी” तथा दूसरा “केंदे पेचायिया पिन्दान ने तेरी मारी” है. इन दोनों गानों के बोल को पढ़ने मात्र से यह साबित हो जाता है कि ये अत्यंत अश्लील, गंदे और अशिष्ट हैं और इस प्रकार आपराधिक कृत्य के अंतर्गत आते हैं.

अमिताभ ठाकुर का कहना है कि ये गाने अत्यंत अश्लील, उत्तेजक और अभद्र होने के कारण आईपीसी की विभिन्न धाराओं 292, 293,294 तथा 509 आईपीसी के अंतर्गत अपराध की श्रेणी में आते हैं. इस प्रकार के गाने समाज में महिलाओं के प्रति असम्मान तथा गंभीर अपराध बढाने के उत्प्रेरक का भी कार्य करते हैं और सामाजिक रूप से पूर्णतया वर्जित प्रकार के हैं जिनका समाज पर मात्र बुरा असर ही पड़ता है.

इधर एफआईआर दर्ज होने के बाद हनी सिंह ने सफाई दी है कि जिस गीत को लेकर विवाद हो रहा है, वह उन्होंने नहीं लिखा है. अपने अश्लील और बेगूदे गीतों को लेकर उन्होंने भोलेपन से कहा है कि उन्होंने वही गीत लिखे-गाये हैं, जो समाज में आमफहम हैं. ऐसे में उनका अपराध क्या है?