पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय >पाकिस्तान Print | Share This  

मुल्ला नज़ीर की मौत

मुल्ला नज़ीर की मौत

काबुल. 3 जनवरी 2013. बीबीसी

मुल्ला नज़ीर


अमरीकी ड्रोन हमले में पाकिस्तान के बड़े चरमपंथी नेता मुल्ला नज़ीर को मारने का दावा किया गया है. दक्षिणी वजीरिस्तान में हुए हमले में नज़ीर समेत 5 अन्य लड़ाकों की मौत की पुष्टि की गई है. नज़ीर पर इससे पहले नवंबर में भी आत्मघाती हमला किया गया था जिसमें वो बुरी तरह जख्मी हुए थे.

नज़ीर पर अफगान तालिबान को लड़ाके भेजने का आरोप लगता रहा था जिसका इस्तेमाल विदेशी सेना से लड़ने में हो रहा था. बुधवार को हुए ड्रोन हमले में किसी घर को निशाना बनाया गया था या फिर अंगूरा अड्डा में खड़ी कार को ये अभी साफ नहीं हो पाया है.

अंगूरा अड्डा दक्षिणी वजीरिस्तान के प्रमुख शहर वाना के अंतर्गत आता है और अफगान बॉर्डर से सटा इलाका है. संवाददाता का कहना है कि मुल्ला नज़ीर के खास साथी रत्ता खान भी इस हमले में मारा गया है. वहीं उत्तरी वजीरिस्तान में हुए एक अन्य हमले में दूसरे चार चरमपंथी मारे गए हैं जिनकी शिनाख्त नहीं हो पाई है.

विश्लेषकों का कहना है कि मुल्ला नज़ीर ने सरकार के साथ मिलकर एक गठजोड़ बनाया था और पाकिस्तानी तालिबान का विरोध करते थे. वह अफगानिस्तान में पाकिस्तानी सेना के बजाय अमरीकी सेना पर हमले के समर्थक थे.

अमरीका में बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद से पाकिस्तान में ड्रोन हमले तेज हुए हैं जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए हैं. ड्रोन हमले में अल कायदा और तालिबानी चरमपंथियों के अलावा आम लोगों के मारे जाने की बात भी कही जाती रही है.

इस्लामाबाद की तरफ से पाकिस्तान की संप्रभुता का हवाला देकर इस तरह के हमले के विरोध की बातें भी सामने आती हैं लेकिन विश्लेषक मानते हैं कि पाकिस्तान सरकार ने भीतर-भीतर इस तरह के हमले की इजाज़त दी है.