पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

लव, सेक्स और धोखा में नपे विधायक चौधरी

लव, सेक्स और धोखा में नपे विधायक चौधरी

चंडीगढ़. 9 जनवरी 2013

राम कुमार चौधरी


पंचकूला में मारी गई ज्योति की हत्या के मामले में कांग्रेस विधायक रामकुमार चौधरी की गिरफ्तारी के बाद अब यह सवाल उठना शुरु हो गया है कि क्या पंजाब के होशियारपुर की ज्योति की हत्या का राज खुल सकेगा ? क्या हत्याकांड में जिन्हें आरोपी बनाया गया है, उन राजनीतिक लोगों के खिलाफ पुलिस पर्याप्त सबूत जुटाएगी ? यह सारे सवाल इसलिये उठ रहे हैं क्योंकि ज्योति हत्याकांड में अब जा कर पकड़ में आये कांग्रेस विधायक राम कुमार चौधरी को पुलिस महीने भर से संरक्षण दे रही थी. जनाक्रोश बढ़ा तब कहीं जा कर विधायक को आत्मसमर्पण करने के लिये कहा गया.

गौरतलब है कि 22 नवंबर को होशियारपुर के गांव भूंगा के बूटी राम की बेटी ज्योति का शव पंचकूला के 21 सेक्टर की बाहरी सड़क पर मिली थी. ज्योति मोहाली में रह कर बीएड कर रही थी. उसकी मौत के बाद जब जांच हुई तो पता चला कि उसकी हत्या की गई है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई कि उसका गर्भपात भी कराया गया था. बाद में जांच के दौरान कांग्रेस विधायक राम कुमार चौधरी के साथ उसके रिश्तों की बात सामने आई. यहां पता चला कि विधायक ने चुनाव के दौरान पैसों के लेन-देन के लिये भी ज्योति का इस्तेमाल किया. इसके अलावा कत्ल की वारदात के दौरान विधायक के मोबाइल का लोकेशन भी घटनास्थल का पता चला.

चार बार विधायक रहे चुके लज्जा राम के बेटे चौधरी के खिलाफ जब कार्रवाई शुरु हुई तो विधायक राम कुमार चौधरी ने जमानत के लिये अर्जी दाखिल की. जमानत खारिज होने के बाद वे कथित तौर पर फरार हो गये. इसके बाद पुलिस ने दबाव में विधायक राम कुमार चौधरी पर 2 लाख और अन्य आरोपियों परमजीत, धर्मपाल और गुरमीत पर 50-50 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया. मामला जब राजनीतिक दांव-पेंच में उलझने लगा तो मंगलवार को राम कुमार चौधरी ने आत्ममर्पण कर दिया.

इधर इस मामले में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा है कि कानून अपना काम कर रही है और इस मामले में किसी पर भी कोई दबाव नहीं है. अदालत का कोई भी फैसला हमें मान्य होगा. दूसरी ओर विपक्ष के नेता प्रेम कुमार धूमल ने कहा है कि इस मामले की सुनवाई जल्दी की जानी चाहिये. उन्होंने कहा कि अगर इस मामले में सरकार ने कोई लापरवाही बरती तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in