पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

बदहाल कृषि विभाग के एंबेसडर आमिर खान

बदहाल कृषि विभाग के एंबेसडर आमिर खान

रायपुर. 9 जनवरी 2013

आमिर खान


छत्तीसगढ़ में धान की खत्म होती खेती और कृषि विभाग की बदनामी के बीच सरकार ने फिल्म अभिनेता आमिर खान को खेती के लिये ब्रांड एंबेसडर बनाने का फैसला लिया है. राज्य के कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहु ने कहा है कि इस बारे में बातचीत हो गई है और मार्च तक आमिर खान इसके लिये समय देने के लिये तैयार हैं. इसके बाद आमिर खान धान का प्रचार करते नजर आ सकते हैं.

कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहु ने यह फैसला ऐसे वक्त में लिया है, जब राज्य में धान की पैदावार लगातार घटती जा रही है. पिछले साल की तुलना में इस साल धान की खेती का रकबा दो लाख हेक्टेयर कम हो गया है. पिछले साल धान का रकबा 39 लाख 37 हजार 796 हेक्टेयर था, जो इस वर्ष 37 लाख 73 हजार 760 हेक्टेयर है. इसके अलावा पिछले पांच सालों में कृषि विभाग द्वारा बांटे गये खराब बीजों के कारण राज्य के हजारों किसान बदहाल हो गये हैं.

इसके अलावा राज्य के कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहु के खिलाफ अपने ही गांव मानिकचौरी के रहने वाले नवापारा कृषि उपज मंडी के कर्मचारी छबिलाल साहू को आत्महत्या के लिये प्रताड़ित करने का आरोप है. इस मामले में जब्त सुसाइड नोट को आधार बना कर छबिलाल के परिजनों ने चंद्रशेखर साहु के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका भी दायर की थी, जिस पर अदालत ने न्यायिक जांच के आदेश दिये हैं.

राज्य में हर दिन तीन किसानों की आत्महत्या के आंकड़े पिछले कुछ साल में और गहरा गये हैं. किसान की आत्महत्या और किसानी के कारण आत्महत्या की बहसों के बीच कृषि मंत्री के इलाके में ही कई किसानों ने जान दे दी है. ऐसे में आमिर खान किस हद तक कृषि विभाग की बदनामी को धो पाएंगे, यह एक बड़ा सवाल है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

PRAVIN PATEL [tribalwelfare@gmail.com] BILASPUR - 2013-01-09 16:03:08

 
  Aamir Khan has earned a place of respect amongt the people of India by taking up some of the burning issues in the public Interst. His accepting the offer of becoming the brand ambassador of the Chhattisgarh will dent his image seriously, as he will be used as a mask to hide the reality that have become order of the day in Chhattisgarh. Innocent tribals packed up in over crowded jails without any trial for months and years, killing hundreds of innocent tribals in fake encounters, rape and gang rapes of many tribal women in Dantewada, now the Kanker rapes, farmers committing suicide, coal mafia having a free run, free flow of alcoholic liquor while the water for irrigation is denied, rivers are sold, worst conditions of roads, take any area, there are plenty of things to hide. POOR AAMIR WILL BE FACING TOUGH DAYS AHEAD TO TRY IN VAIN TO HIDE SO MANY WRONGS BY ACCEPTING THE OFFER TO BE A BRAND AMBASSADOR.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in