पहला पन्ना > राज्य > महाराष्ट्र Print | Send to Friend | Share This 

मुंबई बम धमाकों के तीनों आरोपियों को फांसी

मुंबई बम धमाकों के तीनों आरोपियों को फांसी

मुंबई. 06 अगस्त 2009

 

मुंबई के दो इलाकों जावेरी बाज़ार और गेटवे ऑफ इंडिया में 25 अगस्त 2003 को हुए बम विस्फोट के तीनों दोषियों को विशेष पोटा अदालत ने फांसी की सज़ा सुनाई है. यह तीन आरोपी अशरफ अंसारी, हनीफ सईद और उसकी पत्नी फहमीदा सईद है. इन धमाकों में 54 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 180 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे.

इससे पहले पोटा अदालत ने इन तीनों आरोपियों को 27 जुलाई को पोटा कानून की धारा- 3,2,44 औऱ भारतीय दंड संहिता की धारा- 302 एवं 120 (ब) तथा विस्फोटक पदार्थ कानून की विभिन्न धाराओं के तहत दोषी ठहराया था. इस मामले की पैरवी कर रहे सरकारी वकील उज्जवल निकम ने आरोपियों के लिए मृत्युदंड की मांग की थी. जबकि बचाव पक्ष ने महिला आतंकी फहमीदा के प्रति नरमी बरतने का अनुरोध किया था.

बचाव पक्ष के वकील का कहना था कि चूंकि फहमीदा एक महिला है और पढ़ी लिखी भी नहीं है, वो अपने पति के कहे का ही अनुसारण कर रही थी. इसलिए इसे मृत्युदंड ना दिया जाए. लेकिन पोटा अदालत के विशेष न्यायाधीश एम.आर. पुराणिक ने इस दलील को नामंजूर करते हुए कहा कि आतंकी महिला हो या पुरुष सजा सबके लिए बराबर है.