पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

त्रिवेदी के बजट से ज्यादा बढ़ा रेल भाड़ा

त्रिवेदी के बजट से ज्यादा बढ़ा रेल भाड़ा

नई दिल्ली. 10 जनवरी 2013

रेल


इस साल 21 जनवरी से रेल किराये में बढ़ोत्तरी कर दी गई है. इस बढ़ोत्तरी में पिछले साल के बजट में पेश किराये से कहीं अधिक बढ़ोत्तरी की गई है. एसी-3 और एसी चेयर का किराया 10 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ाया गया है, वहीं स्लीपर का किराया 6 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ाया गया है. रेल मंत्री पवन बंसल ने एक प्रेस कांफ्रेस में बताया कि सेकंड क्लास मेल एक्सप्रेस का किराया 4 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ाया गया है. सेकंड क्लास के लिए 3 पैसे प्रति किलोमीटर किराया बढ़ाया गया है. सेकंड क्लास उपनगरीय का किराया 2 पैसे प्रति किलोमीटर की दर से किराया बढ़ाया गया है. सभी किराए 5 रुपए के गुणांक में ही बढ़ेंगे.

रेल मंत्री पवन बंसल ने कहा कि पिछले 10 सालों में रेलवे का खर्चा बढ़ा, लेकिन किराया अब तक नहीं बढ़ाया गया था. रेल मंत्री ने हालांकि यह आश्वासन भी दिया कि इसके बाद रेल बजट में फिर से रेल किराया नहीं बढ़ाया जायेगा. बंसल ने कहा कि पिछले 2 महीनों से मैं जहां भी जा रहा हूं, वहां लोग मुझसे कह रहे हैं कि वे ज्यादा पैसे देने के लिए तैयार हैं. हमें उन्हें बेहतर सुविधाएं देनी होंगी.

रेल का किराया ऐसे समय में बढ़ाया गया है, जब पहली अप्रैल से 30 नवम्बर तक रेलवे ने 78868.17 करोड़ रुपए की कमाई की. पिछले वर्ष 66150.48 करोड़ का राजस्व अर्जित किया गया था. यह पिछले साल के मुकाबले 19.23 प्रतिशत ज्यादा है. माल ढुलाई, यात्री किराए और अन्य काफी क्षेत्रों में काफी वृद्धि हुई.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in