पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

बड़ों से रेप तो ठीक लेकिन-रमेश बैस

बड़ों से रेप तो ठीक लेकिन-रमेश बैस

रायपुर. 10 जनवरी 2013

रमेश बैस


छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के भाजपा सांसद रमेश बैस द्वारा रेप के मुद्दे पर दिये गये बयान को लेकर देश भर में तीखी प्रतिक्रिया हुई है. विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने जहां रमेश बैस के वक्तव्य के बाद उनके इस्तीफे की मांग की है, वहीं सोशल साइटों पर रमेश बैस के खिलाफ अभियान जैसा चल रहा है.

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल कांकेर जिले में 11 नाबालिग आदिवासी बच्चियों के साथ सामुहिक बलात्कार का सनसनीखेज मामला सामने आया था. इस बारे में बात करते हुये रमेश बैस ने अगंभीरता से टिप्पणी करते हुये कहा कि बराबरी या बड़े लोगों के साथ बलात्कार समझ में आता है लेकिन नाबालिग बच्चियों के साथ ये करना जघन्य अपराध है. इनको फांसी पर लटका देना चाहिए.

रमेश बैस ने कहा कि कांकेर में जिस तरह की घटना सामने आई है, वैसी घटनाएं कई जगहों पर होती हैं लेकिन उनकी रिपोर्टिंग नहीं होती. उन्होंने कहा कि इस मामले में लिप्त कर्मचारियों को नौकरी से निकालने से पीड़ितों को इज्जत वापिस नहीं मिल जाएगी. इस मामले में अभियुक्त को कड़ी सज़ा दिए जाने की जरुरत हैं. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में हुई ये घटना शर्मनाक है.

रमेश बैस ने इस मामले में आशंका जताते हुये कहा कि वरिष्ठ अधिकारी भी इस तरह के काम में लिप्त हो सकते हैं. उनका कहना था कि पिछले कई महीने से इन लड़कियों का यौन दुर्व्यवहार होता रहा और संबंधित अधिकारी इससे बेखबर रहे.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Anurag [] Italy - 2013-01-10 21:09:48

 
  I think the problem of the people`s mind set. What they are looking in content. I think we should not go in the literal meaning of the lines, Mr. Bais has said. We must read the intention behind these lines what actually he want to convey. I don`t think he has said something wrong. What I could understand is he is talking about the character of rapist that they are so cruel. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in