पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतरराष्ट्रीय >पाकिस्तान Print | Share This  

भारत चाहता है युद्ध - खर

भारत चाहता है युद्ध - खर

नई दिल्ली. 13 जनवरी 2013. बीबीसी

hina rabbani ghar


पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर ने भारत पर युद्ध के लिए आमादा होने का आरोप लगाया है. खर का ये बयान भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के साथ सामान्य रिश्ते नहीं रहने की बात कही थी.

दोनों देशों के बीच नियंत्रण रेखा पर भारत के दो सैनिकों की नृशंस हत्या के बाद तनातनी का दौर चल रहा है. पाकिस्तान की विदेश मंत्री खर ने ये भी कहा कि इस मामले में भारत की प्रतिक्रिया से पाकिस्तान को काफी निराशा हुई है.

खर ने ये भी कहा है कि पाकिस्तान सरकार भारत के साथ शांति की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चाहती है. वॉशिंगटन में आयोजित एशिया सोसाइटी की एक बैठक में हिना रब्बानी खर ने कहा, “हम सीमा रेखा पर तीन घटनाएं देख चुके हैं. हमें लग रहा है कि सीमा के उस पार का देश युद्ध चाहता है. ”

इस घटना की भारत ने कड़ी निंदा की है. हिना रब्बानी खर ने इस पर कहा, “भारत में जिस तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है वह निराश करने वाली है. ऐसा लग रहा है कि वहां के राजनेताओं में आक्रामक बयानबाज़ी के लिए होड़ लगी है.”


खर ने ये भी कहा कि अगर पाकिस्तान में कोई दूसरी सरकार होती तो भारत को उसी सुर में जवाब दे सकती थी, लेकिन उनकी सरकार ऐसा नहीं करेगी. खर ने कहा, “हमारे दो सैनिक मारे गए. कथित तौर पर भारत के भी दो सैनिक मारे गए हैं. पाकिस्तान युद्ध नहीं चाहता है. हम शांति वार्ता को आगे बढ़ाना चाहते हैं.”

पाकिस्तान की विदेश मंत्री ने ये भी कहा है कि इस मसले पर दोनों देशों को कहीं ज़्यादा परिपक्वता दिखानी चाहिए. उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री के अलावा भारतीय थल सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह के बयान को भी आक्रामक बताया. खर ने कहा कि दोनों देशों के बीच सामान्य संबंध बहाली के लिए शांति प्रक्रिया को जारी रखना ही एकमात्र विकल्प है.

वैसे हिना रब्बानी खर ने एक बार फिर भारतीय सैनिकों के सर काटे जाने की किसी घटना में पाकिस्तानी सेना के शामिल होने से इनकार किया.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in