पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

शिंदे के इस्तीफे की मांग

शिंदे के इस्तीफे की मांग

नई दिल्ली. 21 जनवरी 2013

सुशील कुमार शिंदे


भाजपा और आरएसएस ने गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के इस्तीफे की मांग की है. भाजपा और आरएसएस पर आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर चलाने का आरोप लगाने वाले गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे पर पलटवार करते हुये भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा है कि केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर हिंदू आतंकवाद फैलाने की बात कहकर देश के हिंदू समाज का अपमान किया है. उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और खुद शिंदे हिंदू समाज से माफी मांगें. गडकरी ने कहा है कि इसके विरोध में 24 जनवरी को देश भर में प्रदर्शन करेंगे. दूसरी ओर आरएसएस नेता राम माधव कहा कि शिंदे असली आतंकियों के डार्लिंग बन गए हैं. उन्हें जमात-उद-दावा बधाई दे रहा है. इस तरह के बयान से वह भारत के दुश्मनों की मदद ही कर रहे हैं.

गौरतलब है कि रविवार को जयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर के दौरान गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने मुख्य विपक्षी दल भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर आरोप लगाया था कि उनके कैंपों में कथित तौर पर हिंदू आतंकवादियों को प्रशिक्षण दिया जाता है.

शिंदे के बयान की भाजपा ने कड़ी निंदा करते हुये कहा था कि गृहमंत्री को माफी मांगनी चाहिये. पार्टी के प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि गृहमंत्री का बयान गैर-जिम्मेदाराना है. ये आतंकवाद को हिंदू और मुसलमानों के बीच बांटने का प्रयास है. वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने भी शिंदे पर आरोप लगाते हुये कहा कि देश के गृहमंत्री के लिए बिना किसी सबूत या आधार के इस तरह का ग़ैर-ज़िम्मेदाराना बयान देना बिल्कुल अनुचित है. भाजपा और आरएसएस, ये दोंनो देशभक्त संगठन हैं और आंतकवाद के ख़िलाफ़ हमारा रुख जगज़ाहिर है.

लोकसभा में नेता विपक्ष सुषमा स्वराज ने गृह मंत्री से माफी की मांग करते हुए कहा कि भगवा हमारी संस्कृति, परंपरा, आस्था और देशभक्ति का प्रतीक है. पार्टी उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी ने शिंदे के बयान को देश के लिए खतरनाक बताया और कहा कि इसके लिए सोनिया गांधी को माफी मांगनी चाहिए.

इधर भाजपा और संघ द्वारा माफी मांगने और बयान को वापस लेने के मुद्दे पर शिंदे ने कहा कि ये सब इतनी बार अख़बार में आ गया है. ये कोई नई चीज़ नहीं है, जो मैंने आज कही है. ये भगवा आंतकवाद की ही बात मैंने की है, कोई दूसरी बात नहीं कही है. गृहमंत्री ने दावा का कि उनके पास रिपोर्ट आ गई है. जाँच में भाजपा हो या आरएसएस के ट्रेनिंग कैंप, हिंदू आतंकवाद बढ़ाने का काम देख रहे हैं.

सुशील कुमार शिंदे ने संघ और भाजपा के खिलाफ बयान देते हुये कहा कि समझौता एक्सप्रेस रेलगाड़ी का धमाका हो, मक्का मस्जिद ब्लास्ट या फिर मालेगाँव के धमाके, हिंदू चरमपंथियों ने वहाँ जाकर बम धमाके करवाए और फिर ऐसा कहा कि ये धमाके अल्पसंख्यकों ने करवाए हैं.ऐसी कोशिशों से देश को सतर्क रहना चाहिए.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

nirmal [nirmalshivam2257@gmail.com] yamunanagar - 2013-01-22 01:45:53

 
  शिंदे साहब जी, सब हिंदुओं का कत्ल करवा दो, आतंकवाद ही खत्म हो जाएगा. एक हिंदू होकर भी हिंदुओं के लिये आपकी ऐसी गंदी सोच शर्मनाक है. हिंदुओं से ही हिंदुस्तान है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in