पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

गैंगरेप के दो आरोपी बच जाएंगे

गैंगरेप के दो आरोपी बच जाएंगे

नई दिल्ली. 22 जनवरी 2013

गैंगरेप


दिल्ली में चलती बस में हुए गैंगरेप और हत्या के मामले में एक और आरोपी ने दावा किया है कि वह नाबालिग है. उसके वकील ने इस मामले में अदालत से बोन टेस्ट कराने की मांग करते हुये मामले को जूवेनाइल ऐक्ट के तहत चलाने की बात कही. इससे पहले एक आरोपी का मामला पहले ही जूवेनाइल ऐक्ट के तहत चलाने की बात हो चुकी है. अगर इस आरोपी के खिलाफ भी जूवेनाइल ऐक्ट के तहत मामला चलता है तो दोनों आरोपियों को सजा नहीं मिलेगी.

दिल्ली में हुये गैंगरेप और हत्या के मामले में सोमवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट में विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने दावा कि विनय की उम्र 18 साल से कम है, इसलिए उस पर जूवेनाइल ऐक्ट के तहत कार्रवाई हो. विनय शर्मा ने फास्ट ट्रैक कोर्ट में अडिशनल जज योगेश खन्ना के समक्ष असली उम्र का पता करवाने के लिए 'बोन टेस्ट' के लिए आवेदन दिया. वकील का दावा है कि विनय शर्मा की वास्तविक जन्म तिथि 1 मार्च 1995 है. ऐसे में उसकी उम्र 18 साल से कम है.

इधर गैंगरेप और हत्या के मामले में एक आरोपी की सुनवाई दिल्ली से बाहर किये जाने पर मंगलवार को विचार होगा. इससे पहले सोमवार को फास्टट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई शुरु हुई. गैंगरेप के आरोपी मुकेश ने मुकदमे को उत्तर प्रदेश के मथुरा या किसी अन्य राज्य में ले जाने की मांग की है. उसने अंदेशा जताया है कि दिल्ली में स्वतंत्र और निष्पक्ष सुनवाई नहीं हो पाएगी. प्रधान न्यायाधीश अल्तमस कबीर, न्यायमूर्ति जे. चेलामेश्वर और न्यायमूर्ति विक्रमजीत सेन की खंडपीठ ने सोमवार को इस मामले को अगले दिन की कार्यसूची में शामिल करने का निर्देश दिया है.

गैंगरेप के आरोपी मुकेश ने अपनी याचिका में कहा है कि दिल्ली में इस मामले की निष्पक्ष सुनवाई नहीं हो सकती क्योंकि मुख्यमंत्री शीला दीक्षित एवं अन्य ने इस मामले में व्यक्तिगत रुचि दिखाई है और इस कारण न्यायपालिका भारी दबाव में रहेगा. आरोप लगाया गया है कि याचिकाकर्ता के प्रति पुलिस और जेल अधिकारियों का रवैया पूरी तरह पक्षपात पूर्ण रहा.

गौरतलब है कि 16 दिसंबर को चलती बस में बलात्कार की जघन्य घटना के बाद लड़की को गंभीर चोटे आई थीं जिसके बाद से उसका इलाज दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में चल रहा था. 26 दिसंबर को उसे विशेष विमान से इलाज के लिए सिंगापुर लाया गया था. जहां उस बच्ची ने दम तोड़ दिया था.