पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

एमएमएस और गैंगरेप की जांच करेगा महिला आयोग

एमएमएस और गैंगरेप की जांच करेगा महिला आयोग

रायपुर. 29 जनवरी 2013

गैंगरेप


छत्तीसगढ़ के अकलतरा में शहर के रईसजादों द्वारा अश्लील एमएमएस बना कर युवती से साल भर तक गैंगरेप करने के मामले की जांच के लिये राष्ट्रीय महिला आयोग जल्दी ही एक टीम छत्तीसगढ़ भेजेगी. महिला आयोग की अध्यक्ष ममता शर्मा ने इस घटना पर चिंता जताते हुये कहा है कि छत्तीसगढ़ में महिलायें असुरक्षित हैं और इस तरह के मामलों में कड़ी कार्रवाई की ज़रुरत है.

गौरतलब है कि राज्य के जांजगीर-चांपा जिले के अकलतरा कस्बे में कुछ रईसजादों ने कॉलेज की एक छात्रा को नशीला पदार्थ पिला कर उसके साथ बलात्कार किया और उसके बाद उसका एमएमएस बना कर उसे ब्लैकमेल कर पिछले एक साल से उसका यौन शोषण करते रहे. इस मामले में आरोपियों ने शहर के कुछ और धनकुबेरों के बिगड़ैल लड़कों को एमएमएस दे दिया, जिसके बाद लड़की पर उनके साथ भी दैहिक संबंध बनाने का दबाव बना रहा.

लगातार यौन शोषण से परेशान लड़की ने जहर पीकर जब जान देने की कोशिश की तो मामला सामने आया. लेकिन सत्ताधारी भाजपा से जुड़े हुये धनकुबेरों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाये स्थानीय प्रशासन ने लड़की के घरवालों पर ही दबाव बनाना शुरु कर दिया. हालत ये हुई कि जहर पीने के बाद अस्पताल में भर्ती लड़की के स्वास्थ्य का हवाला दे कर उसका बयान भी दर्ज करने से प्रशासन बचता रहा. अंततः इस मामले में सामाजिक संगठनों के हस्तक्षेप के बाद प्रशासन ने खानापूर्ति शुरु की.

इस मामले में एक लड़की समेत तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया लेकिन इन में से किसी से भी पुलिस ने न तो पूछताछ की और ना ही अश्लील एमएमएस जब्त करने की कोई कोशिश की गई. यहां तक कि स्वस्थ लड़की को बिना उसके परिजनों की सहमति के परिवार वालों के खर्चे पर बिलासपुर के एक निजी अस्पताल में भेज दिया गया और लड़की को आईसीयू में भर्ती करा कर प्रशासन ने ऐलान कर दिया कि लड़की की हालत खराब है और वह बयान देने की हालत में नहीं है. लड़की के परिजनों का आरोप है कि निजी अस्पताल में भर्ती कराने के बाद लड़की की हालत और खराब हो गई है.

इधर सामाजिक संगठनों ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को ज्ञापन सौंपा, तब कहीं जा कर प्रशासन ने कार्रवाई शुरु की. आनन-फानन में पीड़ित लड़की का बयान दर्ज किया गया. इधर इस मामले के चौंथे आरोपी ने भी दबाव के बाद आत्म समर्पण कर दिया.

फिलहाल इस मामले में पेट्रोल पंप मालिक राजेंद्र शर्मा का बेटा अमन शर्मा, उसकी रिश्ते की बहन पल्लवी शर्मा, ढाबा संचालक शांत सिंह का बेटा सिद्धांत सिंह, क्रशर खदान मालिक सुंदर केडिया का बेटा कुणाल केडिया न्यायिक हिरासत में हैं. इस मामले को लेकर आंदोलन कर रही नागरिक संगठन फाइट फॉर जस्टिस के विनोद व्यास, सुबीर राय, प्रथमेश, जसबीर सिंह ने कहा है कि पीड़िता और उसके परिजनों पर राजनीतिक और प्रशासनिक दबाव है. यहां तक कि पूरा प्रशासन मामले की लिपापोती में लगा हुआ है. संगठन ने कहा है कि अगर इस मामले में प्रशासन ने और लापरवाही जताई तो हम उपरी अदालत में मामले को ले कर जाएंगे.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Padmnabh Gautam [pmishra_geo@yahoo.co.in] Arunachal Pradesh - 2013-01-29 14:23:32

 
  हैरान हूँ की क्या कमेन्ट करूँ....लड़की के प्रति अफसोस के सिवाय.....  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in