पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

झेलम के किनारे से फांसी तक अफजल

झेलम के किनारे से फांसी तक अफजल

नई दिल्ली. 9 फरवरी 2013

अफजल गुरु


अफजल गुरु की फांसी के साथ एक ऐसा अध्याय समाप्त हो गया, जिसके कई पन्ने अनदेखे रह गये. ऐसे पन्ने, जिनके बारे में कम ही लोगों को मालूम है और अब वह सब कुछ इतिहास हो गया. सोपोर में झेलम नदी के किनारे आबगाह गांव में पैदा हुये अफजल को स्कूली दिनों में स्वतंत्रता दिवस के दिन खास तौर पर परेड की अगुवाई के लिये चुना जाता था. मशहूर शाइर मिर्जा गालिब के दिवाने अफजल ने मेडिकल की पढ़ाई शुरु की लेकिन चरमपंथी आंदोलन ने यह पढ़ाई पूरी नहीं होने दी. अफजल ने चरमपंथी आंदोलन से किनारा भी किया, नौकरियां भी की लेकिन चरमपंथी आंदोलन का जूनून अफजल को जिस रास्ते पर लेकर आया था, उसका शनिवार को तिहाड़ में फांसी के साथ अंत हो गया.

बीबीसी के पत्रकार रियाज़ मसरूर की एक पुरानी रिपोर्ट बताती है कि स्कूली दिनों में अफजल गुरु स्कूल के कार्यक्रमों में इतने सक्रिय थे कि अफजल को भारत के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर परेड की अगुवाई करने के लिए विशेष रूप से चुना जाता था. क्षेत्रीय स्कूल से अफ़ज़ल ने 1986 में मैट्रिक की परीक्षा पास की. हायर सेकेंड्री के लिए अफजल ने सोपोर के मुस्लिम एजुकेशन ट्रस्ट में दाख़िला लिया तो वहाँ उनकी मुलाक़ात नवेद हकीम से हुई जो शांतिपूर्ण भारत विरोधी गतिविधियों में सक्रिय थे लेकिन अफ़ज़ल ने पढ़ाई को प्राथमिकता दी और 12वीं पास कर, मेडिकल कॉलेज में दाख़िला लिया और पिता के ख़्वाब को पूरा करने में जुट गए.

रिपोर्ट के अनुसार जब कश्मीर में 1990 के आसपास हथियारबंद चरमपंथ शुरू हुआ तो अफ़ज़ल एमबीबीएस के तीसरे साल में थे, तब तक उनके दोस्त नवीद हकीम चरमपंथी बन चुके थे. इसी दौरान श्रीनगर के आसपास के क्षेत्र छानपुरा में भारतीय सेना ने एक कार्रवाई के दौरान कथित रुप से कई महिलाओं के साथ बलात्कार किया.

अफ़ज़ल के साथियों का कहना है कि इस घटना से उन्हें गहरा आघात पहुँचा इसलिए उन्होंने अपने साथियों के साथ नवेद से संपर्क स्थापित किया और भारत विरोधी जम्मू-कश्मीर लिब्रेशन फ़्रंट में शामिल हो गए. अफ़ज़ल नियंत्रण रेखा के पार मुज़फ़्फ़राबाद में हथियारों के प्रशिक्षण के बाद वापस लौटे तो संगठन की सैन्य योजना बनाने वालों में शामिल हो गए. सोपोर में लगभग 300 कश्मीरी नौजवान उनकी निगरानी में चरमपंथी गतिविधियों में हिस्सा लेते रहे.

ऐसे ही एक नौजवान फ़ारूक़ अहमद उर्फ़ कैप्टन तजम्मुल (जो अब चरमपंथ छोड़ चुके हैं) ने बताया कि अफ़ज़ल ख़ून-ख़राबे को पसंद नहीं करते थे. पुरानी यादें दोहराते हुए फ़ारूक़ का कहना है, "जब कश्मीर में लिबरेशन फ़्रंट और हिज़्बुल मुजाहिदीन के बीच टकराव शुरू हुआ तो अफ़ज़ल ने 300 सशस्त्र लड़कों की बैठक सोपोर में बुलाई और ऐलान किया कि हम इस मार-काट में भाग नहीं लेंगे. यही कारण है कि सारे क्षेत्र में आपसी लड़ाई में सैकड़ों मुजाहिदीन मारे गए लेकिन हमारा इलाक़ा शांत रहा."

अफजल गुरु पर लिखी 6 साल पुरानी एक रिपोर्ट में रियाज़ मसरूर बताते हैं कि अपने चचेरे भाई शौकत गुरू (संसद पर हमले के एक और अभियुक्त) की मदद से उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और स्नातक के बाद अर्थशास्त्र में डिग्री ली. शौकत के छोटे भाई यासीन गुरू का कहना है कि अफ़ज़ल दिल्ली में अपना और अपनी पढ़ाई का ख़र्च ट्यूशन देकर चलाते थे. डिग्री के बाद थोड़े समय के लिए शौकत और अफ़ज़ल दोनों ने बैंक ऑफ़ अमरीका में नौकरी की. अंत में दिल्ली में सात वर्षों तक रहने के बाद 1998 में वह अपने घर कश्मीर वापस लौटे. यहाँ उनकी शादी बारामूला की तबस्सुम के साथ हुई.

तबस्सुम कहती हैं कि वह अफ़ज़ल के अतीत से परिचित थीं लेकिन अफ़ज़ल की संगीत में दिलचस्पी से उन्होंने यह मतलब निकाला कि चरमपंथी बनना एक दुर्घटना थी. उनका कहना है, "ग़ालिब की शायरी उनके सर पर सवार थी, यहाँ तक कि हमारे बेटे का नाम भी ग़ालिब रखा गया. वह माइकल जैक्सन के गाने भी शौक़ से सुनते थे."

उस दौर में अफ़ज़ल ने दिल्ली की एक दवा बनाने वाली कंपनी में एरिया मैनेजर की नौकरी कर ली और साथ-साथ खु़द भी दवाइयों का कारोबार करने लगे. अफ़ज़ल के दोस्तों का कहना है कि यह समय अफ़ज़ल के लिए वापसी का दौर था, वह सामान्य रूप से सैर-सपाटे, गाने-बजाने और सामाजिक कामों में दिलचस्पी लेने लगे थे.

अफ़ज़ल के बचपन के साथी मास्टर फ़ैयाज़ का कहना है कि क्षेत्रीय फ़ौजी कैंप पर हर रोज़ हाज़िर होने की पाबंदी और पुलिस टास्क फ़ोर्स की कथित ज़्यादतियों ने अफ़ज़ल की सोच को वापस मोड़ दिया. अफ़ज़ल की भाभी बेगम एजाज़ का कहना है कि 2000 में टास्क फ़ोर्स ने अफ़ज़ल को गिरफ़तार कर लिया और "उन्हें काफ़ी यातनाएँ दीं". इसके बाद अफ़ज़ल ने सोपोर में रहना छोड़ दिया और अधिकतर दिल्ली और श्रीनगर में रहने लगे. हिलाल गुरू का कहना है कि जब 13 दिसंबर को संसद पर हमला हुआ तो वह अफ़ज़ल के साथ दिल्ली में मौजूद थे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in