पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उत्तराखंड Print | Share This  

रिहाई मंच की मांग-कश्मीरी छात्र रिहा हों

रिहाई मंच की मांग-कश्मीरी छात्र रिहा हों

लखनऊ. 13 फरवरी 2013

अफजल गुरु


अफजल गुरु की फांसी का देहरादून में विरोध करने वाले 16 कश्मीरी छात्रों की गिरफ्तारी को लेकर रिहाई मंच ने कहा है कि एक लोकतांत्रिक राष्र्त में शांतिपूर्वक विरोध करने वालों की गिरफ्तारी बताती है कि विरोध के सारे अवसर कांग्रेस दमनपूर्वक खत्म कर देना चाहती है. रिहाई मंच ने विरोध करने वाले कश्मीरी छात्रों की पुलिस और बजरंगदल से जुड़े गुंडों द्वारा पिटाई की कड़ी निंदा की है.

रिहाई मंच के प्रवक्ता शाहनवाज आलम और राजीव यादव ने बताया कि देहरादून के उत्तराखंड इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के आदिल रशीद, आदिल अजीज भट् (वेरीनाग, अनंतनाग), इरफान अशरफ, वशीद अरहमन पुत्र अब्दुल समद पंडित (डूरु, सोपोर), अंजारुल अहद समेत कुल सोलह छात्रों को उस समय देहरादून पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, जब वे अफजल गुरु को बिना निष्पक्ष सुनवाई के फांसी दे दिए जाने का शांतिपूर्वक विरोध कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इन सोलह छात्रों को पुलिस ने देहरादून पुलिस लाइन में रखा है और उन पर शांति व्यवस्था भंग करने का आरोप लगाया है और उन्हें अनलाफुल एक्टीविटीज प्रिवेन्सन एक्ट के तहत फंसाने की लगातार धमकी दी जा रही है.

रिहाई मंच ने कहा है कि कांग्रेस सरकार ने पहले तो अफजल गुरु को फांसी देकर कश्मीर के नाम पर सांप्रदायिक हिंदू वोट बैंक को भाजपा से छीनने की कोशिश की और अब कांग्रेस शासित राज्यों में कश्मीरी मुसलमानों पर हमला करके पूरे देश के हिन्दुत्वादी जेहनयित को यह संदेश दे रही है कि कश्मीर के मुसलमानों से वह संविधान प्रदत्त हर अधिकार छीन लेगी. उन्होंने उत्तराखंड सरकार से मांग की है कि गिरफ्तार किये गये सभी कश्मीरी छात्रों को तत्काल रिहा किया जाये.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in