पहला पन्ना >कला >दिल्ली Print | Share This  

फिर चली चित्रांगदा की देह चर्चा

फिर चली चित्रांगदा की देह चर्चा

मुंबई. 20 फरवरी 2013

चित्रांगदा सिंह


चित्रांगदा सिंह कहा है कि इनकार के बाद आई मी और मैं ऐसी फिल्म है, जिस पर फिल्म बनाने की आम तौर पर फिल्मकार नहीं सोचते. उनका कहना है कि इनकार को जिस तरह से दर्शकों ने सराहा, उसके बाद यह बात और स्पष्ट हो गई कि अगर मुद्दा महत्वपूर्ण है तो दर्शक भी ऐसी फिल्मों को स्वीकार करता है.

चित्रांगदा की शुरुवाती फिल्म हजारों ख्वाहिशें ऐसी देखने वाले चित्रांगदा को अच्छे अभिनय के लिये आज भी याद करते हैं. इस पहली फिल्म के साथ पहली बार मुंबई आने वाली चित्रांगदा को बहुत गंभीरता से लिया गया. 2005 में 'हजारों ख्वाहिशें ऐसी' के बाद चित्रांगदा ने उसी साल 'कल यस्टरडे टुमारो' में काम किया था. लेकिन इसके बाद उन्होंने गोल्फार ज्योति रंधावा के साथ शादी करके अपना घर बसा लिया.

बाद में 2008 में 'सॉरी भाई', 2010 में 'बसरा', 2011 में 'ये साली जिंदगी', 2011 में 'देसी ब्वाएज' और इस साल 'जोकर', 'आई मी और मैं' के अलावा 'इनकार' जैसी फिल्में उनकी झोली मैं है. इनकार आ चुकी है और अब उनकी फिल्म 'आई मी और मैं' को लेकर प्रतीक्षा बनी हुई है. मजेदार ये है कि बाक्स आफिस पर दर्शकों को बटोरने के लिये फिल्म की कहानी और उस पर चर्चा नहीं होती. इनकार फिल्म में भी चित्रांगदा के देह प्रदर्शन को ही प्रचार के लिये चुना गया था और एक बार फिर आई मी और मैं फिल्म में भी चित्रांगदा के देह प्रदर्शन को ही प्रचारित किया जा रहा है.