पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

रिकॉर्ड फसल लेकिन किसान बेहाल

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय > Print | Share This  

बलात्कार पीड़िता को सौ कोड़ों की सज़ा

बलात्कार पीड़िता को सौ कोड़ों की सज़ा

माले. 22 फरवरी 2013. बीबीसी

Rape Victim


मालदीव में बलात्कार पीड़ित एक पंद्रह वर्षीय लड़की को अदालत ने सौ कोड़ों की सजा सुनाई है. अदालत ने ये सजा लड़की को विवाह-पूर्व यौन संबंध स्थापित करने के आरोप में सुनाई है. लड़की ने पिछले साल आरोप लगाया था कि उसके सौतेले पिता ने उसका यौन शोषण किया और उनके बच्चे को मार डाला था.

अभियोजकों का कहना था कि इस आरोप से बलात्कार का मामला साबित नहीं होता है. मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने इस सजा की आलोचना की है और इससे “क्रूर, अपमानजनक और अमानवीय” बताया है. मालदीव सरकार का भी कहना है कि वो इस फैसले से सहमत नहीं है और कानून में बदलाव की जरूरत है.

बाल न्यायालय की प्रवक्ता ज़ैमा नशीद का कहना है कि इस लड़की को आठ महीने तक बच्चों के एक घर में नजरबंद रहने का आदेश दिया गया है. प्रवक्ता ने इस सजा की पैरवी करते हुए कहा कि लड़की ने अपनी इच्छा से कानून का उल्लंघन किया था.

अधिकारियों का कहना है कि लड़की को कोड़े तब लगाए जाएंगे जब वो 18 साल की हो जाएगी, या फिर यदि वो इसके लिए पहले तैयार हो जाती है. करीब चार लाख की आबादी वाले द्वीप समूहों के देश मालदीव में कानूनी तौर पर शरीया के साथ-साथ अंग्रेजी कानून से भी प्रभावित है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल के शोधकर्ता अहमद फैज़ का कहना है कि मारने-पीटने की सज़ा देना बहुत क्रूरता है और सरकार को इसे खत्म कर देना चाहिए. उनका कहना था, “हमें इस बात पर बेहद आश्चर्य है कि सरकार इस कानून को खत्म करने के लिए कुछ नहीं कर रही है. कानून की किताबों से ऐसी सजाओं को पूरी तरह से हटा देना चाहिए.” मालदीव में ये इस तरह का अकेला मामला नहीं है. ऐसे मामले इससे पहले भी प्रकाश में आते रहे हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in