पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

निर्भया फंड से खुश है गैंगरेप पीड़िता का परिवार

निर्भया फंड से खुश है गैंगरेप पीड़िता का परिवार

नई दिल्ली. 1 मार्च 2013

गैंगरेप


वित्त मंत्री द्वारा पेश बजट में महिलाओं के लिये निर्भया फंड बनाये जाने की घोषणा का दिल्ली गैंग रेप में मारी गई लड़की के परिजनों ने स्वागत किया है. दिल्ली की बहुचर्चित रेप कांड में मारी गई लड़की को निर्भया नाम दिया गया था. गुरुवार को पेश बजट में उसी लड़की के नाम से निर्भया फंड बनाने की घोषणा की गई है. निर्भया फंड को महिलाओं की सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

गौरतलब है कि 16 दिसंबर की रात दिल्ली की एक चलती बस में इस लड़की के साथ छह लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया था. बलात्कार करने के बाद आरोपियों ने इस लड़की और उसके पुरुष मित्र की बेरहमी से पिटाई भी की थी और चलती बस से नीचे फेंक दिया था, जिसके बाद लड़की का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था. बाद में बेहतर इलाज के लिए उसे 26 दिसंबर को सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मृत्यु हो गई थी. लड़की के साथ हुये गैंगरेप को लेकर पूरे देश भर में कई दिनों तक विरोध प्रदर्शन हुये थे.

2013-14 के बजट में वित्त मंत्री ने गैंगरेप में मारी गई लड़की के काल्पनिक नाम निर्भया के नाम से महिलाओं की सुरक्षा और सशक्तिकरण के लिए अलग फंड बनाने की घोषणा की है. इस घोषणा को लेकर पीड़ित के पिता ने कहा कि वित्त मंत्री ने मेरी के बलिदान को याद रखा, यह मेरे लिये खुशी की बात है. अच्छी बात ये है कि यह पहल खुद वित्त मंत्री ने की है. हालांकि इस फंड का नाम मेरी बेटी के असली नाम पर रखा जाता तो यह ज्यादा उचित होता. मारी गई लड़की के पिता ने कहा कि ऐसा फंड बना कर महिलाओं की रक्षा में अगर खर्च किया जाये तो कम से कम जो दुख मेरे परिवार ने उठाया है, वैसी स्थिति किसी के सामने नहीं आएगी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

N.K.Tiwari. [] Ujjain. - 2013-03-01 05:20:02

 
  ये एक अच्छी पहल है. इससे बलात्कार पीड़िता की पीड़ा तो कम नहीं होगी पर दिल पर लगे घावों पर मरहम का काम तो कर ही सकता है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in