पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

16 की उम्र में सेक्स तो होगा एड्स

16 की उम्र में सेक्स तो होगा एड्स

रायपुर. 18 मार्च 2013

सेक्स


छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर सहमति से सेक्स की उम्र 16 वर्ष रखने का विरोध किया है. रमन सिंह ने लिखा है कि केन्द्र सरकार का निर्णय देश के सामाजिक ताने बाने को छिन्न-भिन्न कर देगा. मुख्यमंत्री ने इस फैसले का तीव्र विरोध किया है और प्रधानमंत्री से इस पर फिर से विचार करने की मांग की है.

मुख्यमंत्री ने लिखा है कि जो बात नई दिल्ली में 16 दिसम्बर 2012 को हुई घटना के बाद देश में बलात्कार और यौन हिंसा के विरूध्द कड़े कानून बनाने को लेकर प्रारंभ हुई थी वह अपनी मूल भावना से हटकर सहमति से सेक्स की उम्र कम करने के विवाद पर सीमित हो गयी है.

उन्होंने पत्र में कहा है कि सहमति से सेक्स करने की उम्र 16 वर्ष रखने के संबंध में यह तर्क दिये जा रहे है कि 18 वर्ष की सीमा रखने से भी लड़कियॉ यौन हिंसा से बच नहीं सकती हैं या आजकल बड़ी संख्या में 16 से 18 वर्ष के युवा सहमति से शारीरिक संबंध रखते है या 15 वर्ष के लड़के, लड़की युवावस्था के परिवर्तनों और आवश्यकताओं के बारे मंक ज्यादा परिपक्व हो गये है और वे इन संबंधों के मामलों में बहुत जिम्मेदार भी हो गये है. यह भी तर्क दिया गया है कि युवाओं को गलत दिशा में जाने से रोकने के लिए कठोर कानूनों की नहीं अपितु सेक्स शिक्षा की आवश्यकता है.

अपने पत्र में रमन सिंह ने कहा है कि देश के ग्रामीण क्षेत्र पहले से ही स्वास्थ्य क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के खतरों का सामना कर रहे है. ग्रामीण क्षेत्रों में एनीमिया की समस्या व्याप्त है और यौन संबंध बनाने की उम्र कम करने से गरीब लड़कियां सबसे ज्यादा प्रभावित होगी. स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता के अभाव में गर्भधारण और गर्भपात के प्रकरणों की बहुतायत होगी और ग्रामीण क्षेत्र का स्वास्थ्य तंत्र खुले समाज की अवधारणा के इस दबाव को झेलने समर्थ नहीं होगा. ग्रामीण क्षेत्रों में वैसे ही स्कूलों में यौन शिक्षा प्रदान करने को लेकर स्थानीय समाज का विरोध है, ऐसे में युवा लड़के, लड़कियॉ समझदारी के अभाव में एचआईवी और एड्स जैसे रोगो का शिकार हो सकते है और यह एक बड़ी समस्या बन जाने की संभावना है.

मुख्यमंत्री ने लिखा है कि उनके विचारों को यह कहकर खारिज करने के पहले कि यह पुरातनपंथी विचार है या ग्रामीण मानसिकता का प्रतीक है या बहुत ज्यादा आशंका या भय पर आधारित है, यह विचार करना जरूरी है कि सहमति से किया जाना वाला सेक्स कितना सहमति पर आधारित होगा और कितना भय या दबाव पर हासिल की गयी सहमति पर. डॉ. रमन सिंह ने आगे लिखा है कि यह मान लेना कि 16 वर्ष की आयु वाली लड़की बिना भय और दबाव के यौन संबंध बनाने का निर्णय लेने के लिए सक्षम है, वास्तविक परिस्थितियो के खिलाफ है और यह निर्णय युवाओं को स्वच्छंद यौन प्रयोगों के आमंत्रण का कार्य करेगा.

उन्होंने पत्र में लिखा कि इस निर्णय के कारण उत्पन्न होने वाले इस विरोधाभास को भी दूर करने की जरूरत है कि सेक्स के लिए तो न्यूनतम उम्र 16 वर्ष की जा रही है लेकिन विवाह के लिए 18 वर्ष. उन्होंने इस निर्णय पर पुनर्विचार करने की मांग करते हुए कहा कि वे प्रधानमंत्री को यह विश्वास दिलाना चाहेंगे कि उनकी सरकार यौन हिंसा के विरूध्द बनने वाले कानून का कड़ाई से पालन करेगी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

A.K. GUPTA [ashok467669@gmail.com] lucknow - 2013-03-18 15:58:30

 
  why there should permission for sex with her/his will without consent of parents and society? 
   
 

pramod srivastav [] Ambikapur - 2013-03-18 14:11:47

 
  क्या सरकार चाहती है कि दो साल के यौन अनुभव के बाद शादी की जाए? 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in